बेखौफ खनन माफियाः बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के बफर जोन के पास अवैध रेत खनन

- जाजागढ़ में रेत माफिया खुलेआम छलनी कर रहे पिपहि नदी का सीना
- अधिकारी एक दूसरे पर थोप रहे जवाबदेही

By: Hitendra Sharma

Published: 17 Mar 2021, 09:39 AM IST

कटनी. मध्य प्रदेश में खनन माफिया किस कदर हावी है इसकी बानगी बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के पास देखने को मिल रही है। टाइगर रिजर्ब के वफर एरिया से लगे संवेदनशील क्षेत्र जाजागढ़ के पिपहि नदी का ीसीना चीरने में लगा रेत माफिया का दुस्साहस इस कदर बढ़ गया है कि यहां रेत खनन में खुलेआम मनमानी कर पानी के अंदर से रेत निकाली जा रही है।

टाइगर रिजर्व को खतरा

जानकार बताते हैं कि जाजागढ़ बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व का संवदेनशील क्षेत्र है, यहां वन्यप्राणियों का मूवमेंट बना रहता है। जंगल के अंदर तक नदियों से रेत खनन से पानी का बहाव प्रभावित होगा। नदी का इकोसिस्टम तबाह हो जाएगा और इसका सीधा असर वन्यप्राणियों के विचरण और उनके जीवन पर पड़ेगा। रेत के मनमाने खनन पर बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व और कटनी जिले के राजस्व विभाग के अधिकारी आमने-सामने हैं। दोनों विभाग के अफसर एक दूसरे पर जवाबदेही की बात कहकर कार्रवाई से करने से बच रहे हैं।

हमारे एरिया में खनन होगा तो करेंगे कार्रवाई
बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर विसेंट रहीम ने बताया कि जाजागढ़ स्थित पिपहि नदी में रेत खनन बफर एरिया या संवदेनशील क्षेत्र में होगा तो कार्रवाई की जाएगी। करीब तीन माह पहले ऐसी एक शिकायत में जांच करने टीम गई थी खनन का क्षेत्र राजस्व एरिया का निकला था। फिर भी वर्तमान परिस्थितियों की जांच करवाएंगे।

एक दूसरे पर जवाबदेही थोपी
बरही तहसीलदार सच्चिदानंद त्रिपाठी ने बताया कि जाजागढ़ स्थित पिपहि नदी में मनमाना खनन पर वन विभाग को कार्रवाई के लिए देखना चाहिए। राजस्व एरिया में खनन हो रहा है तो हम जांच करवाएंगे। तीन माह पहले जांच के दौरान ऐसा कुछ मामला सामने नहीं आया था। अगर रेत का अवैध खनन किया जा रहा है तो कार्रवाई की जाएगी।

कलेक्टर का आदेश भी हवा
जिलेभर में रेत व दूसरी खनिज का अवैध खनन और परिवहन रोकने के लिए कलेक्टर द्वारा जनवरी माह के अंतिम सप्ताह में निर्देश जारी कर कर्मचारियों व पटवारियों की ड्यूटी लगाई थी। जानकर ताज्जुब होगा कि दो माह में कलेक्टर का आदेश फाइलों में ही दबकर रह गया। कलेक्टर प्रियंक मिश्रा फरवरी माह में की गई महज सात कार्रवाई को बेहतर बता रहे हैं। जबकि खनन में मनमानी पर प्रभावी नियंत्रण के लिए स्थापित जांच नाकों से निकलने वाले खनिज वाहनों ईटीपी की सघन जांच के निर्देश दिए गए थे।

Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned