video- ये हैं गरीब छात्रों की पुलिस वाली टीचर दीदी

-मंडी बोर्ड में इंस्पेक्टर की नौकरी छोड़, होमगार्ड में बनी प्लाटून कमांडर, अब 10 गरीब बेटियों को दे रही निशुल्क शिक्षा

-प्रदेश में प्लाटून कमांडर की भर्ती में रहीं जिले बेटी रहीं टॉपर, बेटियों को सशक्त बनाने दे रहीं पुलिस व होमगार्ड की कोचिंग

 

By: dharmendra pandey

Updated: 05 Sep 2019, 11:49 AM IST

Katni, Katni, Madhya Pradesh, India

धर्मेंद पांडे.कटनी. गुरुवार को शिक्षक दिवस हैंं। इस मौके पर आज आपको हम एक ऐसे गुरु की कहानी बता रहे हैं जिन्होंने खुद तो मेहनत करके मुकाम हासिल किया ही, गरीब परिवार की बेटियों की भी निशुल्क पढ़ाई का जिम्मा उठाया। होमगार्ड की भर्ती में पहला स्थान हासिल करने वाली प्लाटून कमांडर के पद पर पदस्थ श्वेता गुप्ता की नियुक्ति साल 2017 में होमगार्ड कायार्लय में उपनिरीक्षक के पद पर हुई थी। पोस्टिंग के बाद करीब दो साल तक ट्रेनिंग चली। इसके बाद वे कटनी आई और अप्रैल 2019 से गरीब बेटियों को निशुल्क पढ़ाना शुरू किया। अब होमगार्ड दफ्तर के एक कमरे में हर दिन 9 छात्राओं को डेढ़ से दो घंटे तक पढ़ातीं हैं।
उनकी शिक्षा का असर यह रहा कि एक छात्रा ने एसएससी जीडी की प्रारंभिक परीक्षा पास भी कर ली है। छात्राओं को पढ़ाने के दौरान वे विशेष तौर पर पुलिस व होमगार्ड की परीक्षा में चयन के गुर सिखाती हैं।
प्लाटून कमांडर श्वेता ने बताया कि बेटियों को सशक्त बनाने के लिए वे प्रतिदिन दो घंटे समय दे रही हैं। इसके एवज में छात्रों से किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं लेती हैं। नरसिंहपुर में रहने के दौरान भी वे बच्चों को निशुल्क पढ़ाती थीं। कटनी में 9 लड़कियां निशुल्क कोचिंग लेने आ रही है। इसमें कुछ शहर से आती है तो कुछ ग्रामीण क्षेत्र की हंै।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned