Ayodhya verdict-जब 'शिवÓ के लिए 'शकीलÓ ने लड़ी तीन साल की लंबी लड़ाई

पक्ष में आया फैसला तो खुद के रुपये से बिलहरी से मंगाया शिवलिंग, कराई स्थापना

कटनी. अयोध्या पर फैसले के बाद बात जिले के दो मुस्लिम युवक मोहम्मद शकील व डॉ. एके खान की जिसने भगवान शिव-पार्वती मंदिर ट्रस्ट की जमीन को बचाने के लिए न सिर्फ आगे आए बल्कि उसको अंजाम तक पहुंचाने की लड़ाई भी लड़ी। जिले के ग्राम पड़ुआ में नेशनल हाइवे के किनारे शिव-पार्वती मंदिर ट्रस्ट की जमीन थी। जिसको कुछ लोगों द्वारा खरीद लिया गया था। मंदिर की जमीन पर हुए कब्जे को हटवाने के लिए साल 2008-09 से शुरू हुई लड़ाई लगभग तीन साल तक चली। और मुस्लिम युवकों ने ट्रस्ट के नाम जमीन करवाकर भाईचारे व सामाजिक एकता की मिशाल पेश की। शहर के मिशन चौक निवासी मोहम्मद शकील ने बताया कि ग्राम पडुआ में शिव-पार्वती मंदिर निर्माण के लिए चल रहे आंदोलन को वृहद रूप देने 14 गांव के लोगों को एकत्र किया। गांव में बैठक की। मुस्लिम होने के नाते बैठक में मैंने आंदोलन का नेतृत्व करने से मना कर दिया था, लेकिन ग्रामीणों ने एक साथ होकर मेरे नेतृत्व में लड़ाई लडऩे की बात कहीं और विजय मिली।

साढ़े सात हजार से अधिक लोगों दी थी गिरफ्तारी
मंदिर के जमीन की लड़ाई लडऩे के दौरान साढ़े सात हजार लोगों ने गिरफ्तारी दी थी। तब एसपी ने कहा था कि मंंदिर की जमीन जो बिक गई थी बिकी ही रहेगी, लेकिन हम लोगों ने जेल से बाहर निकलने से मना कर दिया था। शाम 5.30 बजे तत्कॉलीन कलेक्टर अस्थाई जेल पहुंचे और रजिस्ट्री को शून्य कराने का आश्वासन दिया। मोहम्मद शकील ने बताया कि सर्वाकार में शिव-पार्वती मंदिर ट्रस्ट के नाम पर जमीन होने पर मैंने खुद के 7500 रुपये खर्च कर बिलहरी से भगवान शिव की शिवलिंग मंगवाई और प्राण-प्रतिष्ठा कराई थी।

-जिस जगह पर मंदिर बना हुआ है उस जमीन पर कुछ भूमाफियों ने कब्जा कर लिया था और जमीन अपने नाम करवा ली थी। इसके बाद मुस्लिम युवक मोहम्मद शकील व डॉ. एके खान के नेतृत्व में ग्रामीणों ने तीन साल तक लंबी लड़ाई लड़ी। शासन व प्रशासन के लोगों को झुकना पड़ा। जमीन जिला प्रशासन और मंदिर ट्रस्ट के नाम पर हुई।
रेखा राजेश पटेल, सरपंच ग्राम पंचायत पडुआ।
.

dharmendra pandey
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned