बुखार आने पर नहीं लगानी पड़ेगी अस्पताल की दौड़, हर घर में बांटेंगे कोरोना की दवा

पहले पांच दिन के लिए हरी किट का वितरण, तबियत ठीक नहीं हुई तो चिकित्सकों की परामर्श पर दिया जाएगा लाल किट.

By: raghavendra chaturvedi

Updated: 07 May 2021, 09:55 PM IST

कटनी. बुखार आने के बाद जांच के लिए अस्पताल आने और कोविड-19 संक्रमण की चपेट में आने की आशंका से भयभीत नागरिकों के लिए अच्छी खबर है। अब बुखार आने पर अस्पताल या दवा दुकान की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। जिले के प्रत्येक घर में पांच दिन की दवा का डोज उपलब्ध रहेगा। खासबात यह है कि हरी किट के रूप में दी जाने वाली पैकेट में वो दवा होगी जो बुखार आने पर अस्पताल में परीक्षण के बाद ज्यादातर मरीजों को दी जाती है।

जिला अस्पताल में कोविड-19 वार्ड में एक साल से ज्यादा समय से कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे डॉ. एसपी सोनी बताते हैं कि हरी किट की पुडिय़ा उन मरीजों के इलाज में कारगर होगी जिनमें कोरोना संक्रमण के प्रारंभिक लक्षण हैं। ऐसे मरीजों को पहले बुखार आता है। उन्हे शुरू में ही निर्धारित प्रोटोकाल में पांच दिन की दवा मिल जाएगी तो संभव है समय रहते ही वे ठीक हो जाएंगे। संक्रमण बढऩे की आशंका कम होगी और कहीं भागना नहीं पड़ेगा। अगर पांच दिन में मरीज का बुखार ठीक नहीं होता तो ऐसे मरीजों को चिकित्सक की देखदेख में लाल किट दिया जाएगा। इसमें वो दवा होगी जो कोरोना के संक्रमित मरीजों को दिया जाता है।

कलेक्टर प्रियंक मिश्रा ने बताया कि जिले के प्रत्येक घर में दवा का वितरण किया जाएगा। पहले हरी किट का वितरण करेंगे। इसमें पांच दिन की दवा होगी। इस बीच तकलीफ दूर नहीं हुई तो चिकित्सकों की सलाह पर लाल किट दिया जाएगा। जिले में ढाई हजार किट आ गया है। अभियान चलाकर वितरण करेंगे। जल्द ही और किट आने की संभावना है।

Corona virus
raghavendra chaturvedi Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned