लाइटर से भी छोटा यह डिवाइस आपको बना सकता है कंगाल, इससे छूते ही बन जाता है डुप्लिकेट ATM

लाइटर से भी छोटा यह डिवाइस आपको बना सकता है कंगाल, इससे छूते ही बन जाता है डुप्लिकेट ATM
एटीएम धोखाधड़ी

Mohd Rafatuddin Faridi | Updated: 30 Jun 2019, 11:40:53 PM (IST) Kaushambi, Kaushambi, Uttar Pradesh, India

  • छोटे से स्कीमर डिवाइस से फ्रॉड करने वाले कर सकते हैं आपका बैं एकाउंट खाली।
  • कौशाम्बी में पकड़ा गया स्कीमर डिवाइस के जरिये एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर ठगी करने वाला गिरोह।
  • भाजपा विधायक को भी शिकार बना चुका है यह गिरोह।

कौशांबी. जिले की कड़ा धाम कोतवाली व साइबर क्राइम सेल पुलिस ने एक ऐसे युवक को गिरफ्तार किया है जो एटीएम का क्लोन बनाकर लोगों के साथ धोखाधड़ी कर उनके खाते से रुपए निकाल लेता था। पकड़े गए युवक के पास से स्कीमर डिवाइस और कुछ एटीएम व नगद रुपए बरामद हुए हैं। पुलिस का दावा है कि पकड़ा गए एटीएम क्लोनर ने ही तीन महीने पहले मंझनपुर के भाजपा विधायक का एटीएम क्लोन कर बीस हजार रुपये उनके खाते से निकाले थे। गिरफ्तार युवक व उसका गिरोह दिल्ली, उत्तराखंड राजस्थान, बिहार, झारखंड समेत कई प्रदेशों में अपने आधा दर्जन साथियों के साथ मिलकर वारदातों को अंजाम दिया करता था। पुलिस अब गिरफ्तार युवक के साथियों की तलाश में जुट गई है, जो एटीएम क्लोनिंग करने में उसकी मदद करते थे।

 

 

कौशांबी जिले की देवीगंज कोतवाली पुलिस ने देवीगंज कस्बे में एटीएम के पास खड़े एक संदिग्ध युवक को पकड़ कर उसकी तलाशी ली तो उसके पास से अत्याधुनिक स्कीमर डिवाइस बरामद हुआ। युवक से पूछताछ करने पर एक के बाद एक कई खुलासे हुए। पकड़ा गया युवक प्रतापगढ़ जिले के जेठवारा थाना अंतर्गत पूरे पांडे पतुलकी गांव निवासी भूपेंद्र सिंह है। पूछताछ में भूपेंद्र ने बताया कि उनका गैंग एटीएम बूथ में लोगों के साथ धोखाधड़ी कर उनका एटीएम डेटा डिवाइस में सेव कर लेता है। एटीएम का पूरा गोपनीय डेटा डिवाइस में आ जाता है। सॉफ्टवेयर के जरिये लैपटॉप में डालकर एक अन्य डिवाइस से ब्लैंक कार्ड लगाकर डुप्लीकेट एटीएम तैयार किया जाता है। डुप्लीकेट एटीएम से संबंधित व्यक्ति के खाते से आसानी से रुपये निकाल लिये जाते हैं। जिस वक्त एटीएम में कोई मौजूद नहीं होता है तो एटीएम क्लोनर गिरोह वहां पहुंचकर वारदात को अंजाम देता है।

 

पुलिस का दावा है कि तीन महीने पहले मंझनपुर से भाजपा विधायक लाल बहादुर के आईसीआईसीआई बैंक के एटीएम से रुपये निकाले गए थे। इसी तरह मंझनपुर के जिला समन्वयक अशोक कुमार जैन के डुब्लीकेट एटीएम से झारखण्ड के जामताड़ा में रुपये निकाले गए थे। कौशाम्बी पुलिस अधीक्षक प्रदीप कुमार ने दावा किया गया है कि पकड़े गए युवक के साथियों के पास से डिवाइस बरामद कने के लिये पुलिस ने कोशिश तेज कर दी है। जल्द ही गिरोह के आधा दर्जन सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

By Shivnandan Sahu

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned