डीएम का दावा, डायरिया से नहीं झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से हुई किशोरी की मौत

डीएम का दावा, डायरिया से नहीं झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही से हुई किशोरी की मौत
Diarrhea

प्रदूषित पानी पीने से बीमार हुये लोगों का हाल जानने डीएम मोंगरी कड़ा गव पहुंचे

कौशांबी. प्रदूषित पानी पीने के बाद डायरिया से पीड़ित हो तीन दर्जन लोगों के बीमार होने व एक किशोरी की मौत की जानकारी होने पर जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा सिराथू विकास खंड के मोंगरी कड़ा गांव के दलित बस्ती पहुंचे।  जिलाधिकारी ने गाँव की दलित बस्ती का निरीक्षण किया तो वहाँ उन्हे जगह जगह गंदगी दिखाई पड़ी, इस पर उन्होंने जिम्मेदारों को सख्त निर्देश दिया कि सबसे पहले गांव मे फैली गंदगी साफ कराया जाये। 


यह भी पढ़ें: Patrika exclusive-श्री काशी विश्वनाथ के प्रसाद से बनी मिर्गी की सटीक दवा


जिलाधिकारी ने गांव मे लगे हैंडपंप को खुद चलकर उससे निकले पानी की गुणवत्ता को जांचा। डीएम ने जल निगम के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि जो भी हैंडपंप लगाए जा रहे है उनमे मानक का विशेष ध्यान रखा जाये। जिलाधिकारी ने ग्रामीणों से बात कर उनसे गंदगी न फैलाने की अपील किया। मीडिया से बात करते हुये जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा ने कहा कि जिस किशोरी की उपचार के दौरान मौत हुई है वह डायरिया पीड़ित नहीं थी। जांच में पता चला है कि मामूली बीमारी से पीड़ित किशोरी कि मौत झोलाछाप डॉक्टर की लापरवाही के कारण हुई है। उन्होंने माना कि दूषित पानी के इस्तेमाल के कारण कुछ लोग डायरिया से पीड़ित है, जिनका उपचार डॉक्टरों की टीम कर रही है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned