कौशांबी. होली के अवसर पर लोगों को सराबोर करने वाले रंगों में मिले केमिकल से शरीर को होने वाले नुकसान से बचने के लिए इक्यावन शक्तिपीठों में से एक शीतलाधाम मे इस बार पंडा समाज एवं श्रद्धालुओं ने अबीर गुलाल व फूलों से होली खेला। गुलाल व फूलों की होली खेलने से पहले शीतला मां का विशेष श्रृंगार कर छप्पन भोग का प्रसाद चढ़ा पूजन व आरती किया गया। पंडा समाज व श्रद्धालुओं ने पहले शीतला मां के साथ फूल बरसा होली खेली उसके बाद एक दूसरे पर फूल व गुलाल उड़ाया।

 

इक्यावन शक्तिपीठों में से एक माँ शीतलाधाम में होली के अवसर पर विशेष उत्साह स्थानीय लोगों व श्रद्धालुओं में रहता है। होली के दिन माँ शीतला का विशेष श्रृंगार किया जाता है। दोपहर की आरती के समय होने वाले इस श्रृंगार में मंदिर को खास तौर पर सजाया जाता है। इस बार यहां की होली पिछले सालों की अपेक्षा अलग रही। मंदिर की देखरेख करने वाले पंडा समाज ने होली में केमिकल युक्त रंगों से दूरी बनाते हुए अबीर-गुलाल व फूलों की होली खेलने का फैसला लिया।

 

दोपहर में मां शीतला को छप्पन भोग लगा विशेष आरती की गई। उसके बाद मुख्य पुरोहित ने मां पर फूल बरसा होली की शुरुआत किया। रंगोत्सव की मस्ती में सराबोर पंडा समाज व श्रद्धालुओं ने फूल, अबीर व गुलाल बरसा माता रानी व एक दूसरे के साथ होली खेलना शुरू किया। माता के जयकारे के साथ एक दूसरे से गले मिल होली की शुभकामनाएं दिया।

By Shivnandan Sahu

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned