बलात्कारी बाबा का शिकार हुई महिला ने खून से लिखी सीएम योगी को चिट्ठी, बीजेपी सांसद पर बाबा को संरक्षण देने का आरोप

बलात्कारी बाबा का शिकार हुई महिला ने खून से लिखी सीएम योगी को चिट्ठी, बीजेपी सांसद पर बाबा को संरक्षण देने का आरोप

Akhilesh Kumar Tripathi | Publish: Sep, 16 2018 07:12:06 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 07:12:07 PM (IST) Allahabad, Uttar Pradesh, India

चायल से भाजपा विधायक की पहल पर बाबा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है ।

कौशांबी. पांच साल तक बाबा की हैवानियत का शिकार हुई विवाहिता ने सीएम योगी आदित्यनाथ को खून से चिट्ठी लिखी है। पीड़िता ने भाजपा सांसद विनोद सोनकर पर बाबा को संरक्षण देने का आरोप लगाया है । चायल से भाजपा विधायक की पहल पर बाबा के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है ।


बता दें कि इस मामले में एडीजी के आदेश के बाद भी मुकदमा दर्ज नहीं किया जा रहा था । आरोपी बाबा फरार है । मामला करारी थाना क्षेत्र का है ।

 

क्या है पूरा मामला:
करारी थाना इलाके की रहने वाली एक महिला ने बाबा अजमल शाह नाम के एक कथित बाबा का आरोप लगाते हुए कहा था कि बाबा ने उसके साथ पांच सालों तक बलात्कार किया । महिला के अनुसार वह पहली बार बाबा की हैवानियत की शिकार हुई थी जब उसका शौहर बाजार गया हुआ था । बाजार से लौटने के बाद पीड़िता ने हैवान बाबा की करतूत अपने शौहर बताई। जिसके बाद पीड़िता अपने शौहर के साथ मामले की शिकायत दर्ज कराने करारी थाने जा रही थी तो तभी बाबा ने अपने साथियों के साथ पीड़िता को रास्ते मे रोक लिया । आरोप है कि बाबा ने पीड़िता के शौहर को बंधक बनाकर रायफल के बट से उसका एक पैर तोड़ दिया। जब इतने से भी उसका दिल नहीं भरा तो उसने उसके शौहर की एक आंख फोड़ दी । इस तरह पीड़िता अपने शौहर की जिंदगी के खातिर बाबा के तमाम जुल्म और अत्याचार पांच सालों तक सहती रही।
बाबा ने 23 अगस्त को तीन साथियों के साथ घर पर पहुंचकर गैंगरेप भी किया। इस घटना के बाद से जब पीड़िता का सब्र का बांध टूटा तो वह अपने शौहर के साथ मामले की शिकायत दर्ज कराने सीधे करारी थाने पहुंची और बाबा की पूरी दास्तां पुलिस से बताई। आरोप है कि करारी पुलिस ने पीड़िता का केस दर्ज करने के बजाए उल्टा उसके शौहर को हवालात में डाल दिया । इंसाफ के बदले पीड़िता के शौहर को हवालात मिलने के बाद उसने थानेदार की मिन्नतें कर समझौता करने के दबाव में अपने शौहर को पुलिस के चंगुल से छुड़वाने के बाद वापस घर लौट गई । पुलिस से इंसाफ न मिलने पर अगले दिन पीड़िता अपने पूरे परिवार के साथ गांव से पलायन कर गई । पीड़िता ने एडीजी इलाहाबाद को शिकायती पत्र दिया तब जाकर उसकी रिपोर्ट लिखी गई, रिपोर्ट दर्ज होने के बाद एसपी कौशांबी प्रदीप गुप्ता ने जांच सीओ मंझनपुर को सौपी है ।

 

By- Shiv nandan Sahu

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned