छत्तीसगढ़ के इस जिले में 9 हजार से ज्यादा लोग अंगूठा छाप, पढऩा लिखना अभियान के तहत लेंगे बुनियादी शिक्षा

पढऩा लिखना अभियान के तहत कबीरधाम जिले में 2020-21 के लिए 9 हजार असाक्षरों को साक्षर करने का लक्ष्य रखा गया है। इसमें 15 वर्ष से अधिक आयु समूह के असाक्षरों को बुनियादी साक्षरता प्रदान किया जाना हैं।

By: Dakshi Sahu

Published: 03 Nov 2020, 06:16 PM IST

कवर्धा. पढऩा लिखना अभियान के तहत कबीरधाम जिले में 2020-21 के लिए 9 हजार असाक्षरों को साक्षर करने का लक्ष्य रखा गया है। इसमें 15 वर्ष से अधिक आयु समूह के असाक्षरों को बुनियादी साक्षरता प्रदान किया जाना हैं। योजना के तहत जिले के 15 वर्ष और इससे अधिक उम्र के असाक्षरों का चिन्हांकिन सर्वे के माध्यम से किया जाएगा।

नि:शुल्क दिया जाएगा अक्षर ज्ञान
इस अभियान में नीति आयोग द्वारा आकांक्षी जिलों, राष्ट्रीय और राज्य औसत से कम साक्षरता दर वाले जिलों, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति बाहुल्य और अल्पसंख्यक जनसंख्या वाले जिलों को प्राथमिकता प्रदान किया गया है। जिला शिक्षा अधिकारी केएल महिलांगे ने बताया कि असाक्षरों को अनुदेशक द्वारा स्वंमसेवी भावना से नि:शुल्क पढ़ाया जाना है। स्वयंसेवी अनुदेशक द्वारा माह या इससे अधिक अवधि में 120 घंटों का शिक्षण दिया जाएगा। जिले में यह कार्यक्रम ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में संचालित किया जाएगा। कार्यक्रम के संचालन के लिए जिला साक्षरता केंद्र का गठन किया गया है।

वार्ड स्तर पर होगी समिति गठित
कवर्धा कलेक्टर रमेश कुमार शर्मा ने जिले के समस्त अधिकारियों को पढऩा लिखना अभियान के क्रियान्वयन के लिए ब्लाक स्तर, नगर स्तर, पंचायत स्तर और वार्ड स्तर पर समितियों का गठन करने और लक्ष्य अनुसार असाक्षरों का चिन्हांकन, स्वंमसेवी शिक्षकों अनुदेशकों का चिन्हांकन व साक्षरता कक्षा संचालन के लिए केंद्र का निर्धारण करने के निर्देशित किया है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned