3.17 लाख बच्चों को खिलाएंगे एल्बेंडाजोल

3.17 लाख बच्चों को खिलाएंगे एल्बेंडाजोल

Yashwant Jhariya | Publish: Sep, 08 2018 04:51:39 PM (IST) Kawardha, Chhattisgarh, India

बच्चों को कृमि मुक्ति के लिए खिलाया जाएगा एल्बेंडाजोल, 1 से 19 वर्ष आयुवर्ग के लिए कृमिमुक्ति अभियान का आगाज 10 से

कवर्धा . प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी 10 सितम्बर को कृमिमुक्ति दिवस मनाने की तैयारी कर ली गई है। 1 से 19 वर्ष आयुवर्ग के बच्चों को कृमि से मुक्त रखने के लिए देशभर में कृमिमुक्ति मुहिम चलाया जा रहा है। इसी कड़ी में आगामी 10 सितम्बर को शासकीय करपात्री स्कूल के बच्चों को एल्बेंडाजोल की खुराक खिलाकर अभियान का शुभारम्भ किया जाएगा। इसके बाद हर स्कूल में बच्चों को एल्बेंडाजोल की खुराक दी जाएगी। पिछले दिनों कलक्ट्रेट में बैठक लेकर कलक्टर ने सभी सम्बन्धित विभागों को कृमि मुक्ति अभियान के सम्बंध में दिश निर्देश दिया गया था। स्वास्थ्य विभाग के सीएमएचओ डॉ. केके गजभिए ने मुहिम के सम्बंध में बताया कि जिले भर के 3 लाख 78 हजार 137 बच्चों को एल्बेंडाजोल खिलाने का लक्ष्य है। इसमें आंगनबाड़ी, शालेय और शाला त्यागी बच्चे शामिल हैं। उन्होंने बताया कि जिले में 1 से 5 वर्ष तक के कुल 92962 व 6 से 19 वर्ष तक के 285175 बच्चे हैं, जिन्हें उक्त दवा की खुराक खिलाई जाएगी। आगामी 14 सितम्बर को मॉपअप राउंड चलाया जाएगा। इस दौरान छूटे हुए बच्चों एल्बेंडाजोल की खुराक दिया जाएगा।

क्यों होता है कृमि
डॉ. गजभिए ने बताया कि नगें पैर चलने, बिना हाथ धोए खाना खाने, खुले में शौच करने से कृमि की समस्या होती है। कृमि के कारण खून की कमी, कुपोषण, भूख न लगना, थकान, बेचैनी, पेट मे दर्द, मितली, उल्टी-दस्त और वजन में कमी आदि की समस्याएं होती है।
एल्बेंडाजोल से लाभ
एल्बेंडाजोल की खुराक से बच्चों से लेकर युवक-युवती को जो शारीरिक कमजोरी महसूस होती है उससे राहत मिलती है। वहीं खून कमी जो मुख्य रूप से बालिकाओं में होती उसकी पूर्ति होती है। इसके लिए एल्बेंडाजोल की खुराक अतिआवश्यक है।
स्कूली बच्चों का स्वास्थ्य जांच
सीएमएचओ ने जानकारी दी कि शहरी मोबाइल मेडिकल यूनिट द्वारा जिले भर के सभी स्कूली बच्चों का स्वास्थ्य जांच, हीमोग्लोबिन और ब्लड ग्रुप के लिए रक्त परीक्षण करने की योजना है।

Ad Block is Banned