भोरमदेव महोत्सव में बिखेरेगी लोकगीतों की छटा, प्रदेश के कलाकारों को मौका

राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कर चुके छत्तीसगढ़ के खजुराहो भोरमदेव मंदिर को लेकर हर वर्ष महोत्सव का आयोजन किया जाता है..

कवर्धा . भोरमदेव महोत्सव में इस बार लोकगीत की छटा अधिक दिखाई देगी। राष्ट्रीय स्तर के कलाकारों के बजाए स्थानीय कलाकार व कार्यक्रम को अधिक महत्व दिया गया है। साथ ही रियॉलिटी शो और नए बॉलीवुड सिंगर को भी स्थान मिला है।

राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त कर चुके छत्तीसगढ़ के खजुराहो भोरमदेव मंदिर को लेकर हर वर्ष महोत्सव का आयोजन किया जाता है। इस वर्ष 14 व 15 मार्च को दो दिवसीय भोमरदेव महोत्सव आयोजित है।

READ MORE: चोटिल हालत में पहुंची सरोज पांडे नामांकन देने, CM भी थे मौजूद, देखिए वीडियो

इस बार जहां हिन्दी गायन, कत्थक राकर्स, शिव ताड़व, लोकरंग रहेगी वहीं दूसरी ओर छत्तीसगढ़ की लोकगीत रहेगी। जी हां, इस बार महोत्सव के लिए किसी नामी हस्ती को गायन, भजन या गीत के लिए नहीं बुलाया गया है। इस बार एक तरफ लोकगीत तो दूसरी ओर सभी स्तर के लिए कार्यक्रमों का मुकाबला है।

वैसे इसमें काफी आकर्षण के केंद्र बिंदु हैं। इसमें बॉलीवुड शो प्रियाणी वाणी, और मदन शुक्ल हिन्दी गीत की प्रस्तुति देंगे। वहीं बस्तर बैंड भी खुब धूम मचाने वाली होगी। लेकिन इस बार भी प्रचार प्रसार पर ध्यान नहीं दिया गया है।

READ MORE: गरियाबंद में उतरा सीएम रमन का उड़न खटोला

सूफी, गजल व भजन एक साथ
इस बार टीवी में छाएं प्रवीण बसनेट सुफी, गजल व भजन में अपना हुनर दिखाने वाले है। इसी प्रकार सर्वम पटेल का सैंड आर्टिस्ट, बांसुरी वादन हिमांश नंदा, शिव भजन व देवेश शर्मा का जशगीत का आयोजन किया गया है। महोत्सव में दोनों दिन छत्तीसगढ़ लोक कलाकार का संास्कृतिक कार्यक्रम रखा है।

READ MORE: राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस के लेखराम ने दाखिल किया नामांकन, BJP की सरोज को देंगे टक्कर

लोकगीत के कार्यक्रम
महोत्सव में छत्तीसगढ़ी और छत्तीसगढ़ के कुल पांच कार्यक्रम हैं। दो दिन के महोत्सव में कुल १६ कार्यक्रम रखे गए हैं। इसमें इंदिरा संगीत कला विश्व विद्यालय के कार्यक्रम में शामिल है। इसी प्रकार कत्थ्क राकर्स दुर्ग , बंास गीत सिद्ध राम यादव, शिव ताड़व अश्लेषा गु्रप, प्रियाणी वाणी, मदन शुक्ला गायक व लोकरंग अर्जुन्दा का कार्यक्रम पहले दिन रखा गया है। जो प्रदेश के लिए जाने माने कलाकार है।

प्रचार प्रसार नहीं
जिले का प्रदेश व देश स्तर पर पहचान बनाने वाले कार्यक्रम का प्रचार प्रसार जिला प्रशासन द्वारा नहीं किया जा रहा है। कार्यक्रम के तीन दिन पहले ही शहर में फैक्स लगाएं गए हैं। यहां तक की कार्यक्रम के दो दिन पहले तक मिडिया व अन्य जनप्रतिनिधियों के माध्यम से प्रचार प्रसार तक नहीं किया जा रहा है।14 से महोत्सव प्रारंभ होना है। शहर व ग्रामीण क्षेत्र में कार्यक्रम में कौन कलाकार आ रहे हैं। इसकी तक जानकारी नहीं है।

चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned