6 महीने में भूपेश बघेल ने कन्या विवाह योजना समेत बदले BJP के ये फैसले

6 महीने में भूपेश बघेल ने कन्या विवाह योजना समेत बदले BJP के ये फैसले

Anjalee Singh | Publish: Jun, 07 2019 05:24:56 PM (IST) Kawardha, Kabirdham, Chhattisgarh, India

सरकार के इस फैसले के बाद मजदूरों को अपने बेटियों के विवाह बाद मिलने वाली प्रोत्साहन राशि बंद हो गई है। इससे पहले भी Bhupesh Baghel ने भाजपा सरकार (BJP Government) के शासन में चलाई जा रही कुछ योजनाओं को बंद कर दिया है।

कवर्धा. अपने बेटियों के हाथ पीले करने का सपना संजाए बैठे श्रमिक वर्ग को भूपेश सरकार (Chhattisgarh Government) ने करारा झटका दिया है। छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) की सरकार ने शासन ने पिछले 11 साल से संचालित हो रही विवाह योजना को बंद करने का फरमान जारी कर दिया है। सरकार के इस फैसले के बाद मजदूरों को अपने बेटियों के विवाह बाद मिलने वाली प्रोत्साहन राशि बंद हो गई है। इससे पहले भी भूपेश बघेल (Chhattisgarh CM) ने भाजपा सरकार के शासन में चलाई जा रही कुछ योजनाओं को बंद कर दिया है।

क्या थी ये योजना
- श्रम विभाग द्वारा बेटियों के हाथ पीले करने के लिए योजना की शुरुआत पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह द्वारा 2008 में की थी ।
- इसके तहत गरीब परिवारों को बेटियों की शादी में 15 से 20 हजार तक की मदद सरकार द्वारा दी जाती थी।
- इस योजना का लाभ छत्तीसगढ़ के स्थायी निवासी ही ले सकते थे।
- इसका लाभ गरीबी रेखा से नीचे आने वाले परिवार ले सकते थे। साथ ही उनकी 1 लाख रूपए प्रतिवर्ष से कम होनी चाहिए।
- इस योजना का फायदा एक ही परिवार की 2 बेटियां ले सकती थी।

kanya vivah yojna

कांग्रेस ने बदलें भाजपा सरकार के ये फैसले
-भूपेश सरकार ने पूर्ववर्ती रमन सरकार (Former CM) की बहुप्रचारित मुख्यमंत्री सुशासन फेलोशिप योजना को खत्म कर दिया। छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसाइटी (चिप्स) ने आदेश जारी कर कह दिया कि इस योजना के तहत विभिन्न सरकारी कार्यालयों में तैनात सुशासन फेलो की सलाहकारी सेवाएं 31 जनवरी को समाप्त हो जाएंगी।
- भूपेश बघेल ने छत्तीसगढ़ में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरों (CBI) के प्रवेश पर रोक लगा दी है। अब CBI छत्तीसगढ़ में बिना सरकार की अनुमति के प्रवेश नहीं कर सकती।
- रमन सरकार ने अपने शासन के दौरान 2200 वर्ग फीट से कम जमीन की खरीदी-बिक्री पर रोक लगा दी थी। इस फैसले को भूपेश बघेल ने बदल दिया। छोटे भूखंडो की खरीदी की जा सकती है।
- झीरम में हुए नक्सली हमलें की जांच के लिए SIT का गठन किया है। इससे पहले इस घटना की जांच NIA द्वारा की जा रही थी।
- रमन सरकार छत्तीसगढ़ में किसानों को धान का समर्थन मूल्य 1700 रूपए दे रही थी। जिसे भूपेश सरकार ने बढाकर 2500 रूपए कर दिया।
- भूपेश बघेल ने खनिज साधन विभाग की समीक्षा बैठक में सोनाखान बाघमाडा स्वर्ण खदान की लीज पर आपत्ति व्यक्त करते हुए यहां चल रहे खनन कार्यों पर रोक लगा दी।
- भूपेश बघेल ने जनसंपर्क विभाग से 17 समाचार एजेंसियों की सेवाओं को गैरजरूरी बताकर हटाने के निर्देश दिए । इसके साथ ही उन्होंने विभाग की पत्रिका जनमन का प्रकाशन भी रोकने का निर्देश दिया।
- तेंदूपत्ता संग्राहक दर अब 2500 रूपए से बढाकर 4000 कर दिया गया।
- कांग्रेस सरकार ने राजिम कुम्भ का नाम माघी पुन्नी मेला करने का निर्णय लिया ।
- इसके अलावा रमन सरकार द्वारा चुनाव के ठीक पहले शुरू की गई फ्री स्मार्टफोन योजना पर भी रोक लगा दी गई ।

Bhupesh Baghel

मजदूरों में है आक्रोश
राज्य सरकार ने 1 जून 2019 को अधिसूचना जारी कर इस योजना को बंद कर दिया है। सरकार के इस फरमान के बाद लगभग हजारों मजदूरों को झटका लगा है। योजनांतर्गत संगठित क्षेत्र के पंजीकृत श्रमिकों को बेटियों के विवाह बाद 20 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि और असंगठित क्षेत्र के पंजीकृत श्रमिकों को 15 हजार रुपए प्रोत्साहन राशि के रुप में दिया जाता था। इससे श्रमिक वर्ग को बेटियों के विवाह में आने वाली खर्च का बोझ कुछ कम हो जाता था, लेकिन अब योजना बंद किए जाने से श्रमिक वर्ग में काफी आक्रोश है। राज्य सरकार से योजना को दोबारा प्रारंभ करने की मांग की जा रही है।

छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले में 90 हजार संगठित व असंगठित क्षेत्र में श्रमिक पंजीकृत है। तब से अब तक हजारों श्रमिकों को इसका लाभ मिल चुका है, लेकिन अब योजना के अचानक बंद करने के फरमान से श्रमिक वर्ग काफी मायूस हो चुके हैं। श्रमिक वर्ग का कहना है प्रदेश में सरकार बदलते ही 11 साल संचालित महत्वपूर्ण योजना को बंद करना सरकार (Bhupesh Government) की श्रमिक वर्ग के प्रति नियत को दर्शाता है।


असंगठित कर्मकार विवाह योजना को बंद करने का आदेश मिला। 1 जून से योजना बंद हो चुका है। योजना के तहत संगठित क्षेत्र के श्रमिकों को 20 हजार रुपए व असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को 15 हजार रुपए विवाह के बाद प्रोत्साहन के तौर पर दिया जाता था। जिले में लगभग 90 हजार श्रमिक पंजीकृत हैं।
राजेश कुमार आडिले, श्रम अधिकारी, जिला कबीरधाम

यहां पढ़े Bupesh Baghel से जुड़ी ख़बरें

Chhattisgarh rh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned