माओवादी कैम्प से बरामद की गई किताब, पर्चे और विस्फोटक सामग्री, नए सदस्यों दे रहे ट्रेनिंग

माओवादी कैम्प से बरामद की गई किताब, पर्चे और विस्फोटक सामग्री, नए सदस्यों दे रहे ट्रेनिंग

Deepak Sahu | Publish: Mar, 17 2019 02:48:42 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 02:52:25 PM (IST) Kawardha, Kabirdham, Chhattisgarh, India

बरामद की गई किताब, पर्चे और विस्फोटक सामग्री

कवर्धा. कवर्धा जिले अब काफी बड़ा खतरा मंडरा रहा है। यह खतरा सुरेन्दर सिंह और माओवादियों का ट्रेनिंग कैम्प है। पहली बार कैम्प की जानकारी मिली, वहीं पहली बार कूकर बम मिला। अनुमान लगाना होगा कि माओवादी कहां तक आगे बढ़ चुके हैं।

जिला पुलिस टीम ने बकोदा की पहाड़ी पर मौजूद माओवादियों के कैम्प को ध्वस्त किए। पुलिस टीम के अनुसार यह कैम्प 300 मीटर के दायरे में फैला था। कैम्प ध्वस्त करना बहुत ही बड़ी सफलता है। क्योंकि न जाने यह कैम्प को प्रशिक्षण शिविर ही रहा हो, जिसमें ग्रामीणों को ट्रेनिंग दी जा रही थी और प्रशिक्षक सुरेन्दर सिंह हो।

इस अंदेशा से इसलिए भी इनकार नहीं किया जा सकता क्योंकि अब कबीरधाम की कमांड झीरमघाटी कांड के मास्टर माइंड सुरेन्दर सिंह उर्फ कबीर के हाथों में है। और ध्वस्त किए गए कैम्प में मिले पर्चे और साहित्य से तो यही पता चलता है कि कबीरधाम में माओवादियों की ट्रेनिंग चल रहा है वहीं ग्रामीणों का जोडऩे का अभियान भी चलाया जा रहा है।

कूकर बम की शुरुआत
ध्वस्त कैम्प से तैयार कूकर बम बरामद हुआ, जिससे जाहिर हो रहा है कैम्प में बाकी माओवादियों को कूकर बम बनाया सिखाया जा रहा था। कूकर आसानी से उपलब्ध हो जाता है। यह तीन से चार लोगों को बुरी तरह घायल करने या जान लेने के लिए काफी होता है। इससे पूर्व राजनांदगांव जिले में भी बड़ी मात्रा में कूकर बम बरामद हुए थे।

गुमशुदा हो रहे लोग
अब प्रमुख रूप से चिंता का विषय है कि कहीं वनांचल में निवासरत बैगा-आदिवासियों को तो माओवादी अपने साथ शामिल नहीं कर रहे। आए दिन शहर के लेकर गांव के महिला, पुरुष, युवक, युवती, बालक, बालिका गुमशुदा होते हैं। अभी ढाई माह के भीतर ही 47 लोग गुमशुदा हुए, जिसमें केवल 9 को घर लौटे। इसी तरह पिछले वर्ष 2018 में कुल 304 लोग गुमशुदा हुए, इसमें से 228 वापस हुए या पुलिस ने ढूंढा। वहीं वर्ष 2014 से 2018 तक कुल 536 महिलाएं और ३५० बच्चे गुमशुदा हुए। इसमें से 512 महिलाएं और 333 बच्चों को ढूंढा गया। जबकि 91 आज भी लापता हैं।

 

बड़ी संख्या में पर्चे व किताब भी मिले
माओवादियों के कैम्प से बड़ी संख्या में साहित्य, किताब व पर्चे भी मिले। कुछ किताब ऐसे थे जैसे कक्षा लेकर पढ़ाई कराई जाती है। वहीं कुछ फार्म की तरह किताब थे, जिसमें नाम, पता सहित अन्य जानकारियां भरी जाती है। किताबों पर गौर करने पर तो यही लगता है कि माओवादी नए सदस्यों की भर्ती उन्हें ट्रेनिंग ही दे रहे हैं।

माओवादी सीजन
बरसात व ठंड के दिनों की अपेक्षा गर्मी के दिनों में जंगलों में रहना आसान होता है। इसके चलते माओवादियों के ट्रेनिंग और हमले करने का मुख्य सीजन गर्मी के दिनों में ही होता है। ऐसे कैम्प से तैयार कूकर बम सहित विस्फोटक सामग्री का मिलना और जिले में माओवादी सुरेन्दर सिंह का रहना चिंता का विषय है, क्योंकि सामने लोकसभा चुनाव है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned