एसीबी ने मारा छापा, बैगा आदिवासी से 20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथ पकड़ा गया सीईओ

(एसीबी)टीम ने कार्यालय कलक्टर जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति मर्यादित में छापामार कार्रवाई कर क्षेत्राधिकारी दीपक नामदेव को रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया

By: Deepak Sahu

Published: 19 Jan 2019, 11:49 AM IST

कवर्धा . जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति द्वारा गरीब वर्ग को स्वरोजगार के लिए राशि दी जाती है। लेकिन इसमें रिश्वत लेकर राशि प्रदान की जाती है यह तब पता चला जब एंटी करप्शन ब्यूरो ने कार्रवाई की।

रायपुर एंटी करप्शन ब्यूरो (एसीबी)टीम ने कार्यालय कलक्टर जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति मर्यादित में छापामार कार्रवाई कर क्षेत्राधिकारी दीपक नामदेव को रिश्वत लेने के आरोप में गिरफ्तार किया। इसकी शिकायत ९ जनवरी को रायपुर एसीबी कार्यालय के एसपी से की गई। इसके बाद मामले की जांच की गई। कॉल रिकार्ड के जरिए मामला सत्यापित किया गया। इसके बाद युवक को केमिकलयुक्त 500-500 रुपए नोट दिए गए,ताकि क्षेत्राधिकारी को रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा जा सका। इस प्लान पर पूरी तरह से काम किया गया। वहीं कुछ दस्तावेज और चेक भी जब्त किए गए।

 

नोट का मिलान किया
१८ जनवरी को दोपहर १२ बजे १२ सदस्यीय एसीबी की टीम कलेक्ट्रेट पहुंची। जहां पर शिकायतकर्ता कामू बैगा अंत्यावसायी के क्षेत्राधिकारी दीपक नामदेव को २० हजार रुपए दे चुका था। इसके बाद एसीबी की टीम ने कार्यालय में धावा बोला और दरवाजा बंद कर सीधे कार्रवाई शुरू कर दी। कामू बैगा द्वारा दिए गए नोट को ढूंढा। वह ड्राज के नीचे मिले। मिलान किया गया कि नोट वहीं है जो एसीबी ने केमिकल लगाकर दिए थे।

और लिए बयान
कार्रवाई के दौरान एसीबी द्वारा अन्य कई हितग्राहियों को भी बुलाया गया और बातचीत गई। कामू बैगा ने ही कुछ और हितग्राहियों से पैसे लेने की बात बताई थी। इसमें दो अन्य हितग्राहियों ने भी विभाग में रिश्वत देने की बात कहीं। एसीबी टीम ने उनके भी बयान लिए। पूरी प्रक्रिया करीब पांच घंटे तक चली। शाम को कवर्धा जिला न्यायालय में आरोपी को पेश किया, जहां रिमाण्ड पर उसे जेल भेज दिया गया।

 

acb raid

यह रहा पूरा मामला
ग्राम केसदा निवासी युवक कामू बैगा ने बताया कि गांव में वह दुकान खोलना चाहता था। इसके लिए उन्होंने जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति से आवेदन लगाकर राशि की मांग की। स्वावलंबन योजना के तहत युवक को दो लाख रुपए की स्वीकृति हुई। इसमें से एक लाख रुपए मिला तो दुकान का निर्माण प्रारंभ कर दिया। इसके बाद एक लाख रुपए नहीं मिले तो युवक ने जानकारी ली। इसमें युवक से ५० हजार रुपए की मांग रखी, तब एक लाख रुपए दिलाने में मदद करने की बात कही गई। युवक राजी नहीं हुआ। इसके चलते वह दुकान निर्माण का काम छोड़ दिया। इसके बाद विभाग से उसे नोटिस मिलने लगा कि राशि लेकर निर्माण आगे नहीं बढ़ाया जा रहा। इस पर युवक ने एंटी करप्शन ब्यूरो रायपुर में इसकी शिकायत की। इसके बाद एसीबी ने शिकायत की पुष्टि की और तिथि तय किया गया युवक कब उक्त क्षेत्राधिकारी को नोट देगा और कार्रवाई करेंगे।

हंगामा भी हुआ
कार्रवाई के दौरान काफी हंगामा भी हुआ। कार्रवाई के दौरान ही क्षेत्राधिकारी का भाई भी कार्यालय पहुंच गया। इस दौरान एसीबी टीम के साथ वाद-विवाद होने लगा। इस पर जिला पुलिस को सूचना दी गई। कोतवाली थाना से अधिकारी पहुंचे। उक्त युवक को शासकीय कार्य में बाधा पहुंचाने के चलते थाने में बैठा दिया गया।

एसीबी रायपुर, निरीक्षक, लंबोदर पटेल ने बताया शिकायत मिली थी 20 हजार रुपए का रिश्वत मांगा गया है। कामू बैगा रिश्वत नहीं देना चाहता था इसलिए उन्होंने एसीबी कार्यालय में शिकायत की। शिकायत का सत्यापन किया गया। इसमें दीपक नामदेव 20 हजार रुपए रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ाया। इसमें धारा 7 पीसी एक्ट १९८८ के तहत कार्रवाई की गई।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned