विधानसभा चुनाव : मतगणना में आपत्ति के लिए मिलेगा केवल पांच मिनट

विधानसभा चुनाव : मतगणना में आपत्ति के लिए मिलेगा केवल पांच मिनट

Deepak Sahu | Publish: Dec, 10 2018 01:05:25 PM (IST) Kawardha, Kabirdham, Chhattisgarh, India

एजेंटों को अधिकतम 5 मिनट का समय मिलेगा। जिन टेबलों पर गणना पहले हो जाएगी उन्हें दूसरे चस्र5 की घोषणा तक इंतजार करना पड़ेगा।

कवर्धा . विधानसभा चुनाव में इवीएम में डाले गए मतों की गणना विधानसभावार 14-14 टेबलों पर की जाएगी। खास बात यह होगी कि इस बार सभी टेबलों पर हर चक्र में गणना एकसाथ की जाएगी।

राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा जिला निर्वाचन कार्यालय को इस संबंध में निर्देश जारी किया गया है। जिला प्रशासन द्वारा इसके मुताबिक तैयारियां की जा रही है। जिला निर्वाचन कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक इससे पहले तक मतगणना के दौरान विधानसभावार चक्रों की स्थिति तय कर ली जाती थी, लेकिन इस बार ऐसा नहीं किया जा सकेगा। सभी विधानसभा के लिए टेबलों पर इवीएम में डाले गए मतों की गणना हर चक्र में एकसाथ शुरू की जाएगी। जिन टेबलों पर गणना पहले हो जाएगी, उन्हें दूसरे चक्र की घोषणा तक इंतजार करना पड़ेगा। जिले के २ विधानसभा के मतों की गणना 11 दिसंबर को आदर्श कृषि उपज मंडी में की जाएगी।

8.30 खुलेगा पहला इवीएम
ंनिर्वाचन आयोग के निर्देश के मुताबिक मतगणना सुबह 8 बजे शुरू होगी, लेकिन सबसे पहले डाक मत पत्रों की गणना शुरू की जाएगी। इसके लिए शुरू के आधे घंटे का समय तय किया गया है। आधे घंटे बाद यानी करीब साढ़े 8 बजे गणना के लिए पहला इवीएम टेबलों पर लाया जाएगा। इवीएम और डाक मत पत्रों की गणना अलग-अलग टेबल पर की जाएगी।

नहीं करना पड़ेगा जोड़-घटाना
इवीएम पर मतगणना के दौरान इस बार राजनीतिक दलों के एजेंटों को जोड़-घटाना नहीं करना पड़ेगा। दरअसल इस बार एजेंटों को मतगणना के तत्काल बाद गणना सुपरवाइजर हस्ताक्षरयुक्त गणना पत्रक देगा। इसमें सभी प्रत्याशियों को मिले मत लिखे होंगे। इससे पहले तक एजेंटों को मतों की संख्या खुद लिखकर जोड़ घटाना करना पड़ता था। हर चक्र की गणना के बाद एजेंटों को गणना पत्रक(17.सी.2) दी जाएगी। इस पत्रक पर गड़बड़ी अथवा अन्य कारण से एजेंट आपत्ति भी कर सकेंगे। इसके लिए एजेंटों को अधिकतम 5 मिनट का समय मिलेगा। जिन टेबलों पर गणना पहले हो जाएगी उन्हें दूसरे चस्र5 की घोषणा तक इंतजार करना पड़ेगा।

दो वीवी पैट के गिने जाएंगे मत
निर्वाचन आयोग के निर्देश के मुताबिक मतदान की पारदर्शिता को प्रमाणित करने हर विधानसभा में एक इवीएम के साथ वहां के वीवी पैट की पर्चियों की भी गिनती की जाएगी। इसके अलावा जिस किसी कंट्रोल यूनिट में किसी तरह की दिक्कत आती है तो इवीएम की जगह केवल वीवी पैट की पर्चियां गिनी जाएगी। वहीं मॉकपोल डिलिट नहीं किए जाने के कारण भी केवल पर्चियों की ही गिनती होगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned