कोरोना वायरस की दहशत, बच्चे मास्क पहनकर कर रहे पढ़ाई

0 शिक्षकों ने की मास्क की व्यवस्था, 150 बच्चों को पहनाया
0 कोरोना वायरस से बचाव शुरू, जिला अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड तैयार

By: Yashwant Jhariya

Published: 07 Mar 2020, 10:59 AM IST

कवर्धा.
कोरोना वायरस की दशहत फैलती जा रही है। इसके बचाव के लिए कबीरधाम जिले के एक स्कूल में बच्चों को मास्क पहनाकर पढ़ाई कराई जा रही है। यहां पर करीब 150 से अधिक बच्चों को मास्क दिया गया। इसके अलावा जिला अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया है।
घातक व जानलेवा कोरोना वायरस से देश में भी कई पीडि़त मिल चुके हैं। ऐसे में इससे बचाव बेहद जरूरी है। इसी के चलते ही कबीरधाम जिले के ग्राम सरेखा के शासकीय प्राथमिक शाला व पूर्व माध्यमिक शाला में बच्चे चेहरे पर मास्क लगाकर पढ़ाईकर रहे हैं। जिले में पहला स्कूल है जहां पर कोरोना वायरस से बचाव के लिए दोनों विद्यालय के उपस्थित सभी 150 छात्र-छात्राओं को मास्क वितरण किया। इसके चलते अब बच्चे मास्क पहनकर ही स्कूल पहुंच रहे हैं। प्रार्थना से लेकर पढ़ाई तक बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं। वहीं इनके साथ दोनों स्कूल के टिचिंग स्टॉफ भी मास्क लगाकर ही पढ़ाई करा रहे हैं। उक्त स्कूल में मुख्य रूप से इसलिए भी बच्चों को मास्क पहनाया गया, क्योंकि यहां पर २१ बच्चों को सिकलिंग है। ऐसे मेें जिन बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हैं उनमें वायरस तेजी से फैलता है। इसलिए यहां पर शिक्षक-शिक्षिकाओं ने समझदारी का परिचय देते हुए बच्चों को मास्क पहनाया और खुद भी मास्क पहनकर पढ़ाई कराते हैं।

स्टॉफ ने राशि एकत्रित की
कोरोना वायरस की भयावहता को देखते हुए सरेखा स्कूल के प्रधानपाठक राजेश पाण्डेय ने योजना बनाई। सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं ने आपस में राशि एकत्रित कर मास्क खरीदा और बच्चों को वितरित किया। प्रधानपाठक अनिल श्रीवास्तव ने बताया कि सुरक्षित रहना अति आवश्यक है। कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। यह ज्यादातर उन्हीं लोगों को हो रहा है जिन की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है। सरेखा स्कूल की शिक्षिका शहीदन खान, अन्नपूर्णा चंद्रवंशी, रंजीता वर्मा और शिक्षक रमेश चंद्रवंशी, गोपाल पटेल विद्यालय के सभी विद्यार्थियों को वायरस से बचाव के उपाय बताते हैं कि साबुन और पानी से हाथ धोए, खांसते व छींकते वक्त कपड़ा या कोहनी से मुंह ढंके। वर्तमान में हाथ मिलाने से दूरी बनाए रखने के बारे में विस्तार से बताया।
स्वास्थ्य विभाग अलर्ट
दूसरी ओर कोरोना वायरस को लेकर जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग अलर्ट हो चुकी है। सीएमएमचओ ने स्वास्थ्य अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें सावधान व सक्रिय रहने के निर्देश दिए हैं। वहीं स्कूल प्रबंधक द्वारा भी पालकों को इसके प्रति एक माह पूर्व ही सचेत कर दिया था। बच्चों में कोरोना वायरस न फैले इसके लिए शासकीय व निजी स्कूल प्रबंधक पालकों को भी सचेत किए।

बीमारी के लक्षण
विशेषज्ञ डाक्टरों की मानें तो कोरोना वायरस एक खतरनाक बीमारी है। यह तेजी से फैलने वाली बीमारी है। पहले सर्दी, खांसी और बुखार आना शुरू होता है। इसके बाद फेफड़े में इंफेक्शन होने के साथ ही मरीज को श्वास लेने में तकलीफ होती है। सही समय पर इलाज की सुविधा नहीं मिलने से व्यक्ति की मौत भी हो सकती है।
आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था
कलेक्टर अवनीश शरण ने कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटने के लिए तैयारियों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिले में सतर्कता बरतते हुए संदिग्धों की जांच, उपचार और आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के सम्बंध में किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दें। कलेक्टर ने कहा कि इस वायरस से बचने के लिए सतर्कता अवश्य बरते। वहीं जिला अस्पताल समेत 174 उपस्वास्थ्य केन्द्र, 25 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, 6 सामुदायिक स्वास्थ्य, शहरी स्वास्थ्य केंद्र समेत सभी निजी अस्पतालों को संदिग्ध मरीज मिलने पर तत्काल इसकी सूचना विभागीय अधिकारियों को देने का निर्देश दिए गए हैं।

Yashwant Jhariya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned