जीवन बचाने की पहल: महिलाएं नॉन वूलन कपड़े से तैयार कर रही मास्क, जिसे धोकर भी कर सकेंगे उपयोग

नावेल कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए विभिन्न महिला स्व सहायता समूह द्वारा मास्क का निर्माण बड़ी मात्रा में किया जा रहा है।

कवर्धा. नावेल कोरोना वायरस से लोगों को बचाने के लिए विभिन्न महिला स्व सहायता समूह द्वारा मास्क का निर्माण बड़ी मात्रा में किया जा रहा है। मास्क की गुणवत्ता को देखते हुए अब तक जिले में के बहुत से विभागों ने बड़ी मात्रा में मास्क क्रय कर अपने कर्मचारी और जरूरतमंदों को उपलब्ध कराया है। मास्क निर्माण की प्रथम चरण में स्वास्थ्य विभाग को 2500 से अधिक, वन विभाग को 600, पुलिस प्रशासन को 1800, खाद्य विभाग को 200, आबकारी विभाग को 500, कलेक्टर एवं जिला पंचायत कार्यालय को 100 -100 मास्क की पूर्ति मांग अनुसार की गई है।

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन बिहान के तहत गठित महिला स्व सहायता समूह द्वारा मास्क निर्माण किया जा रहा है। वहीं अब तक करीब 10 हजार से अधिक मास्क तैयार किया जा चुका है। खास बात यह है कि मास्क दो किस्म का तैयार किया गया है। स्वास्थ्य विभाग में प्रदाय मास्क ग्रीन सूती कपडे का बनाया गया है। वही शेष मास्क नॉन वुलन कपड़े हैं जोकि धोकर पुनः प्रयोग किए जाने के दृष्टिकोण से बनाया गया है।

आम आम लोगों को बेचेंगे
तीन चरणों में मास्क उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है। प्रथम चरण पर स्वास्थ्य विभाग द्वितीय चरण पर जिले के सभी विभाग और तीसरे चरण पर बाजार में काउंटर लगाकर आम जनता को उपलब्ध कराने की योजना बनाई गई है। कुछ ही दिनों में लोगों को भी के यह मास्क उपलब्ध होने लगेगा।

Corona virus corona virus in india Corona Virus treatment
Show More
Bhawna Chaudhary
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned