धान खरीदी के लिए आंदोलन करने वाले 80 से ज्यादा किसानों के खिलाफ अपराध दर्ज, पुलिस बना रही गिरफ्तारी का दबाव

धान खरीदी नहीं होने पर किसानों ने जिलेभर में चक्काजाम व प्रदर्शन किया था। इसके बाद किसानों का धान खरीदा गया। इस मामले में प्रदर्शन करने वाले 80 से अधिक किसानों के खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ।

By: Dakshi Sahu

Published: 29 Jun 2020, 06:23 PM IST

कवर्धा. धान खरीदी नहीं होने पर किसानों ने जिलेभर में चक्काजाम व प्रदर्शन किया था। इसके बाद किसानों का धान खरीदा गया। इस मामले में प्रदर्शन करने वाले 80 से अधिक किसानों के खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ। चार माह बाद पुलिस अब किसानों को गिरफ्तारी देने के लिए कह रही है। जिससे किसानों में हड़कंप मच गया है। भारतीय किसान संघ ने बिना किसी राजनीतिक उद्देश्य के किसानों का धान बिकवाने चौतरफा आंदोलन व चक्काजाम किया। जिसके चलते ही सरकार ने किसानों का धान खरीदा।

दर्ज रिपोर्ट वापस लेने की मांग
इस आंदोलन में किसी भी तरह की राष्ट्रीय सम्पत्ति व कोई व्यक्तिगत क्षति नहीं हुई। बावजूद किसानों के खिलाफ पंडरिया, बोड़ला, पिपरिया और लोहारा थाने में एफआईआर दर्ज कराया गया। अब 4 माह बाद किसानों को थाने से फोन कर गिरफ्तारी के लिए बुलाया जा रहा है। इस विषय में भारतीय किसान संघ ने बताया कि अगर किसानों कि मांग गलत थी तो सरकार ने उसे पूरा क्यों किया और अगर मांग सही थी तो एफ आईआर क्यो। इस मुद्दे को लेकर भारतीय किसान संघ ने बैठक आयोजित की। निर्णय लिया गया कि दर्ज रिपोर्ट को वापस लेने की मांग की जाएगी। अन्यथा जेल भरो आंदोलन होगा।

एसपी से की मुलाकात
भारतीय किसान संघ के जिलाध्यक्ष दानेश्वर सिंह परिहार ने बताया कि किसान संघ के प्रतिनिधि मंडल ने पुलिस अधीक्षक से मुलाकात की। इस पर पुलिस अधीक्षक 2-3 दिन में जवाब देने की बात की की है। शासन द्वारा किसानों को राहत ना देने की स्थिति में जिलेभर के किसानों द्वारा पुलिस कार्रवाई के लिए तैयार रहने की जानकारी पुलिस अधीक्षक को दे दी गई है। जिलेभर के किसान हजारों की संख्या में जेल भरो आंदोलन करेंगे।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned