इस जिले में खाद्य अधिकारी की जमकर मनमानी, बिना जांच BPL राशन कार्ड को बदल रहे APL में, शिकायतों का लगा अंबार

जिला खाद्य अधिकारी द्वारा न तो आवेदकों से आवेदन लिया जा रहा है और न ही पुराने राशन कार्ड (Ration Card) से नाम काटा जा रहा है।

By: Dakshi Sahu

Published: 21 Sep 2021, 05:26 PM IST

कवर्धा. कबीरधाम जिले में राशन कार्ड को लेकर जमकर गड़बड़ी चल रही है। राशन कार्ड से अपना नाम हटाने आवेदन लेकर आवेदक भटक रहे हैं। बीपीएल (BPL) और अंत्योदय राशन कार्ड को किसी प्रकार की जांच किए बगैर एपीएल (APL) के रूप में बदल दिया गया। इसके चलते बड़ी संख्या में हितग्राही कलेक्टे्रट के चक्कर काट रहे हैं। जिले के सैकड़ों व्यक्ति प्रतिदिन जिला खाद्य अधिकारी के कार्यालय में आवेदन लेकर भटक रहे हैं, लेकिन जिला खाद्य अधिकारी द्वारा न तो आवेदकों से आवेदन लिया जा रहा है और न ही पुराने राशन कार्ड से नाम काटा जा रहा है। इसके साथ ही बीपीएल, अंत्योदय राशन कार्डों को एपीएल के रूप में बदलने का कोई कारण भी नहीं बताया जा रहा है।

सांसद ने लगाई थी फटकार
बहुत परिवारों विघटन या अपने माता-पिता से अलग होने के कारण पुराने राशन कार्ड से अपना नाम हटवा कर अपना नया राशन कार्ड बनवाना चाहते हैं लेकिन पुराने राशन कार्ड से नाम नहीं काटने के कारण नया आवेदन नहीं कर पा रहे हैं। साथ ही साथ इन वर्षों में बहुत सारे महिलाओं का विवाह उपरांत अन्य स्थानों में चले जाने के कारण वह अपना पुराने राशन कार्ड से नाम हटाना चाहते हैं, लेकिन जिला खाद्य अधिकारी द्वारा न नाम हटाया जा रहा है न ही नया आवेदन स्वीकार किया जा रहा है। राशन कार्ड को लेकर लोगों को हो रही परेशानी को लेकर सांसद द्वारा बैठक के दौरान जिला खाद्य अधिकारी को जमकर फटकार लगाई थी।

घंटों किया केबिन में इंतजार
उक्त विषय को लेकर सोमवार को भाजपा के प्रदेश मंत्री, जिला पंचायत सभापति विजय शर्मा और भाजयुमो प्रदेश उपाध्यक्ष कैलाश चंद्रवंशी गांव-गांव से आए आवेदकों के साथ खाद्य अधिकारी से मिलकर कारण जानना चाहा तो खाद्य अधिकारी बिना कोई कारण बताए उठकर चले गए और अपना मोबाइल भी स्विच ऑफ कर दिय। घंटों बाद भी अधिकारी के नहीं आने व आवेदन स्वीकार नहीं करने पर निराश होकर गांव-गांव से आए आवेदकों को वापस लौटना पड़ा। भाजयुमो प्रदेश उपाध्यक्ष कैलाश चंद्रवंशी ने कहा कि इन व्यक्तियों का आवेदन जनपद और ग्राम पंचायतों में नहीं लेने के लिए आदेशित किया गया है जिसके चलते गांव-गांव से आवेदक अपना आवेदन लिए कलेक्ट्रेट कार्यालय कवर्धा का चक्कर लगा रहे हैं।

Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned