गांव में अनियमितता की शिकायत कलेक्टर से की तो पंचायत ने कर दिया दिव्यांग का हुक्का पानी बंद, थाने पहुंचा पीडि़त

बैठक में हेमसिंग मरकाम को बुलाया गया, लेकिन वह नहीं गया। बैठक में नहीं पहुंचने के चलते पंचायत प्रतिनिधियों ने एकतरफा निर्णय लेते हुए हेमसिंग का गांव में हुक्का पानी बंद किए जाने का फैसला लिया।

By: Dakshi Sahu

Published: 27 Jul 2021, 12:03 PM IST

कवर्धा. जिले के पंडरिया ब्लाक के सुदूर वनांचल ग्राम पंचायत सिंगपुर के निवासी हेमसिंग मरकाम जो दिव्यांग हैं इन्होंने पंचायत में हुए कार्यों के जांच की मांग करते हुए कलेक्टर से शिकायत की। इसका खामियाजा हेमसिंग को गांव से बहिष्कृत होकर उठाना पड़ रहा है। पिछले दिनों सिंगपुर पंचायत में रोजगार गारंटी के तहत हुए विभिन्न प्रकार के अनियमितता की गई। एक ही व्यक्ति की डबल हाजिरी भरे जाने की शिकायत कलेक्टर से की गई। इससे पंचायत प्रतिनिधि आक्रोशित हो गए और गांव में बैठक आयोजित करके पीडि़त का हुक्का पानी बंद कर दिया।

Read More: कागजों में लाखों की खरीदी, धरातल पर कुछ नहीं मिला, CEO ने किया सचिव को निलंबित ....

गांव से कर दिया बहिष्कृत
बैठक में हेमसिंग मरकाम को बुलाया गया, लेकिन वह नहीं गया। बैठक में नहीं पहुंचने के चलते पंचायत प्रतिनिधियों ने एकतरफा निर्णय लेते हुए हेमसिंग का गांव में हुक्का पानी बंद किए जाने का फैसला लिया। पंचायत प्रतिनिधियों ने उसी समय फरमान जारी कर दिया कि कोई व्यक्ति हेमराज के घर नहीं जाएगा। न कोई बात करेगा न ही इससे कोई लेनदेन होगा। इस तरह से दिव्यांग हेमसिंग के खिलाफ तुगलकी फरमान जारी कर गांव से बहिष्कृत कर दिया गया है।

Read More: सरकार को घेरने निकले थे आपस में ही भिड़ गए बेमेतरा भाजपा के दो गुट, पूर्व मंत्री और जिला महामंत्री के बीच विवाद, मंडल अध्यक्ष की पिटाई ....

11 लोगों के खिलाफ की शिकायत
पीडि़त हेमसिंग ने सोमवार को थाना कुकदूर में आवेदन दिया। इसमें उन्होंने पांच-छ: व्यक्ति पर आरोप लगाया है कि सिंगपुर में हो रहे अनियमितता की शिकायत पर उसे गांव से बहिष्कृत किया गया है। इसमें उन्होंने बताया कि सरपंच झगर सिंह, मान सिंह, मंगल सिंह, बुधसिंह, देवनाथ, श्रीराम, धाधूराम, खेदूराम, संतोष धुर्वे, थान सिंह मरकाम सहित 11 व्यक्तियों ने उसका गांव में हुक्का पानी बंद कर दिया है। उन्होंने मामले में न्याय की गुहार लगाई है।

कोई मतलब नहीं रखेंगे
इस मामले में सरपंच झगर सिंग का कहना है कि जो मामला था उसको गांव में निपटाने के लिए बैठक आयोजित किया गया था। बैठक से ही लोग हेमसिंग को बुलाने उसके घर गए, लेकिन वह बैठक में नहीं आउंगा बोल दिया। इस पर गांववालों ने निर्णय लिया कि जब हम सब ग्रामीणों का कोई मान-सम्मान नहीं रखा और बैठक में आना जरूरी नहीं समझा तो अब से हम लोग भी उससे कोई मतलब नहीं रखेंगे। थाना प्रभारी कुकदूर लवकुमार तंवर ने बताया कि ग्राम सिंगपुर के हेमसिंह मरकाम का आवेदन मिला है। उनका कहना है रोजगार गारंटी के अनियमितता की शिकायत कलेक्टर को करने पर गांव से बहिष्कृत कर दिया गया है। मामले में जांच उपरांत के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Show More
Dakshi Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned