मिठाई, ब्रेड खा रहे हैं तो सावधान, खाद्य अफसरों ने किया चौंकाने वाला खुलासा, मचा हड़कंप

शहर के व्यापारियों में हड़कंप मच गया जब कई दुकानों की सामग्री जांच में अनामक पाया गया।

By: चंदू निर्मलकर

Published: 09 Feb 2018, 05:15 PM IST

कवर्धा. खाद्य एवं औषधि नियंत्रण की फूट सेफ्टी ऑन विल्स (चलित प्रयोग शाला) की टीम शहर पहुंची। जहां दिनभर दुकानों से खाद्य पदार्थों का सेम्पल लेकर जांच चली। इसमें कई दुकानों की सामग्री अमानक पाया गया। कवर्धा शहर के व्यापारियों में हड़कंप मच गया जब कई दुकानों की सामग्री जांच में अनामक पाया गया।

जी हां, विभाग को शिकायत मिली थी कि शहर में स्थानीय स्तर पर बने सामग्रियों में क्वालिटी बेहद खराब है। इस पर विभाग की ओर से सीधे चलित प्रयोग शाला को शहर में बुलाया गया। गुरुवार को खाद्य एवं औषधि नियंत्रण विभाग की टीम दिनभर दुकानों के मिक्चर, मसाला, मिठाई, ब्रेड, दूध, पानी पाऊच सहित अलग-अलग दुकानों से २८ प्रकार के सामान लिए। नमूनों की जांच चलित प्रयोग शाला में किया गया। इससे व्यपारियों में हड़कंप मचा रहा। वहीं लोग कह रहे हंै, कि इस प्रकार की जांच हर तीन-चार माह में होती रहनी चाहिए।

7 सामग्री अनामक मिले
कुल २८ प्रकार नमूनों की जांच की गई। इसमें १६ सामग्री मानक मतलब सही पाए गए। वहीं ७ सामग्री अनामक और एक सामग्री असुरक्षित पाया गया। अनामक सामग्री मतलब, जो शासन द्वारा खाद्य सामग्री के लिए तय मापदंडों पर खरा नहीं उतर सके। वहीं असुरक्षित सामग्री मतलब जिसके खाने से सेहत को बिगाड़ सकती है। शरीर के लिए काफी नुकसानदायक खाद्य पदार्थ।

जांच के लिए चलित प्रयोग शाला शहर पहुंचा था। जिसके कारण करीब २८ दुकानों से २८ सैम्पल लिया गया था। जिसमें सात अमानक पाए गए।
हेमंत टोप्पो, खाद्य सुरक्षा अधिकारी कबीरधाम

पहली बार तुरंत रिपोर्ट
खाद्य एवं औषधी विभाग द्वारा कई बार पर्व के समय कार्रवाई के नाम पर केवल सैम्पल लेती और जांच के लिए भेज दिया जाता है। इसमेंं काफी समय लगता, जिसके कारण कार्रवाई भी नहीं हो पाती थी। पहली बार खाद्य पदार्थों की क्वालिटी की जांच करने चलती लैब में किया गया। जिसका रिपोर्ट भी तुरंत मिल गया।

चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned