वन विकास निगम ने 16 बैगा आदिवासी परिवारों को थमाया गांव से बेदखली का नोटिस, अधिकारियों की करतूत से बेघर हुए वनवासी

बोड़ला विकासखंड के ग्राम पंचायत महली के मोहल्ला होलिनटोला के 16 बैगा परिवारों को वन विकास निगम ने गांव से बेदलखली का आदेश थमा दिया है।

By: Dakshi Sahu

Published: 22 Jun 2020, 06:29 PM IST

कवर्धा. बोड़ला विकासखंड के ग्राम पंचायत महली के मोहल्ला होलिनटोला के 16 बैगा परिवारों को वन विकास निगम ने गांव से बेदलखली का आदेश थमा दिया है। इसके लिए विभाग ने नोटिस भी जारी किया है। परेशान बैगा परिवार भरी बरसात दर-दर भटकने को मजबूर हैं। बैगाओं ने बताया कि जिस गांव से उन्हें निकला जा रहा है उसी गांव के नाम से उनके पास आधार कार्ड, राशन कार्ड सहित अन्य दस्तावेज बने हैं। जिन्हें दिखाने के बाद भी अधिकारियों के कान पर जूं तक नहीं रेंगा। इसी बीच सर्व आदिवासी समाज के लोग बैगाओं की समस्या जानने गांव पहुंचे।

आधार कार्ड और अन्य दस्तावेजों को नकारा
समाज के पदाधिकारियों ने पीडि़त बैगा परिवारों से मुलाकात करने गांव पहुंचकर उनके समस्याओं को जाना। गांव के लोगों ने बताया कि 20 जून को वन विकास निगम कवर्धा द्वारा 16 बैगा परिवारों को बेदखली का आदेश दिया गया। यह कहते हुए की वह दूसरे गांव के निवासी है और यहां निवास कर रहे हैं। जबकि यह बैगा परिवार कई वर्ष पूर्व से यहां पर बसे हुए हैं। यहां बैगा परिवारों का राशन कार्ड, मतदाता सूची, आधार कार्ड, जॉबकार्ड, बिजली बिल महली गांव के नाम से बना है।

लगाई मदद की गुहार
आदिवासी समाज के जिला अध्यक्ष सगनु सिंह धुर्वे व उसकी टीम ने बैगा परिवार को आश्वासन दिया गया कि उन्हें किसी से डरने की आवश्यकता नहीं है। अधिकारी जहां पर अतिक्रमण हो रहा है वहां पर कार्रवाई नहीं करते। लेकिन जहां पर बैगा या आदिवासी परिवार वर्षों से निवासरत हैं वहां पर कार्रवाई के लिए पहुंचते हैं। बैगा अदिवासियों ने वन विभाग की कार्रवाई के खिलाफ जन प्रतिनिधियों से भी मदद की गुहार लगाई है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned