जल्द ही बच्चों को मुफ्त मिलेगा रोटा वायरस का डोज, प्रशिक्षण शुरू

जल्द ही बच्चों को मुफ्त मिलेगा रोटा वायरस का डोज, प्रशिक्षण शुरू

Anjalee Singh | Publish: Jun, 03 2019 04:50:11 PM (IST) Kawardha, Kabirdham, Chhattisgarh, India

बच्चों और परिजनों के लिए राहत भरी खबर है कि अब शासन द्वारा बच्चों को रोटा वायरस (Rota virus vaccination )का टीका मुफ्त (child vaccination) लगाया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी आरम्भ करते हुए राज्यभर के सम्बन्धित अधिकारी-कर्मचारियों को प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया है।

कवर्धा. बच्चों और परिजनों के लिए राहत भरी खबर है कि अब शासन द्वारा बच्चों को रोटा वायरस का टीका मुफ्त लगाया जाएगा। इसके लिए स्वास्थ्य विभाग ने तैयारी आरम्भ करते हुए राज्यभर के सम्बन्धित अधिकारी-कर्मचारियों को प्रशिक्षण देना शुरू कर दिया है।

रोटा वायरस टीके की पहली डोज डेढ़ माह के बच्चों को दी जाएगी। दूसरी डोज ढाई माह और तीसरी डोज साढ़े तीन माह के बच्चों को लगाई जाएगी। अब तक यह टीका परिजनों को स्वयं के खर्च पर लगवाना पड़ रहा था, जिसके लिए 5 से 6 हजार रुपए तक खर्च करने पड़ते थे। लेकिन अब उक्त टीका को भारत के नियमित टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल कर लिया गया है। देश के अनेक राज्यों में उक्त टीकाकरण जारी हो गया है। अब जल्द ही छत्तीसगढ़ में भी इसे आरम्भ किया जाएगा। कबीरधाम से जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.सतीश चंद्रवंशी, जिला वैक्सिज स्टोर इंचार्ज अनिता तिवारी और जिला शिशु स्वास्थ्य सलाहकार अनुपम शर्मा को रोटा वायरस टीका संबंधित पिछले दिनों रायपुर में उक्त सम्बन्ध में प्रशिक्षण दिया गया।

पोलियो की तरह पिलाएंगे टीका
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. केके गजभिए के अनुसार रोटा वायरस का टीकाकरण होने से बच्चों में डायरिया से होने वाली मौतों में काफी कमी आएगी। डायरिया के अधिकांश प्रकरणों में रोटा वायरस प्रमुखता से पाया जाता है। रोटा वायरस का टीका लगाने से बच्चों की मौत में कमी आएगी। उन्होंने बताया कि रोटा वायरस पर लगाम लगाने के लिए पांच बूंद टीका बच्चों को दिया जाएगा। पोलियो की तरह ही रोटा वायरस का टीका भी ओरल है। इससे बच्चों के शरीर पर किसी प्रकार का नुकसान नहीं होगा। सामान्यत: रोटा वायरस की बीमारी किसी को भी हो सकती है, लेकिन बच्चों में रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होने की स्थिति में वे आसानी से बीमारी के शिकार हो जाते हैं। अब टीकाकरण होने से इस बीमारी से राहत मिलेगी।

रोटा वायरस अत्यधिक संक्रामक वायरस
रोटा वायरस अत्यधिक संक्रामक वायरस है। इसकी वजह से बच्चों को उल्टी-दस्त व बुखार होने का खतरा होता है। सही समय पर इलाज न होने से बच्चों के शरीर में पानी व नमक की कमी हो जाती है, जिसके कारण मौत भी हो सकती है। संक्रामक होने के कारण यह तेजी से एक से दूसरे बच्चे में फैलने लगता है और बच्चों को बीमार करता है। भारत देश में प्रति वर्ष 78000 बच्चों की मौत रोटा वायरस की वजह से हो जाता है।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

CG Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned