यहां पुलिस ने कार व बाइक चालकों से वसूले 27 लाख, आप रहे सतर्क वरना पड़ेगा भारी

जिले में हर तीसरे दिन सड़क लापरवाही एक की मौत होती है।

By: चंदू निर्मलकर

Published: 10 Feb 2018, 05:17 PM IST

कवर्धा. यातायात विभाग इस वर्ष लोगों को सचेत करने में पीछे रह गई है। जिले में 27 लाख रुपए की चालानी काटकर भी पुलिस विभाग के पास लोगों को जागरुक करने के लिए फंड नहीं है। जिले में हर तीसरे दिन सड़क लापरवाही एक की मौत होती है। पिछले वर्ष ही 286 लोगों की मौत सड़क हादसे के दौरान हुई। और यह इसलिए हो रहा है क्योंकि लोग यातायात को लेकर जागरुक नहीं है। इस वर्ष तो पुलिस भी लोगों को जागरुक करने में पीछे रह गई। लोगों को जागरुक करने के लिए ही पुलिस विभाग द्वारा यातायात जागरुकता सप्ताह आयोजित की जाती है। एक सप्ताह तक वाहन चालकों, आम जनता, स्कूल में विद्यार्थियों को यातायात सुरक्षा की जानकारी दी जाती।

इस वर्ष यातायात विभाग लोगों को जागरुक करने में पीछे रह गई है, क्योंकि विभाग के पास राशि नहीं है। केवल यातायात विभाग का वर्ष 2017 में 12 लाख रुपए की चालानी कार्रवाई की गई। ऐसे में लोगों को जागरुक करने के लिए फंड का रोना गले से नहीं उतर रहा।

समन शुल्क में वसूले 27 लाख रुपए
वर्ष 2017 में पुलिस प्रशासन व यातायात विभाग द्वारा वाहन चलाकों पर 12 हजार 256 प्रकरण बनाए। इससे 27 लाख 25 हजार 700 रुपए समन शुल्क वसूले गए। यह राशि शासन को भेज दी गई। इतनी राशि शासन को देने के बाद भी एक लाख रुपए लोगों को जागरुक करने के लिए नहीं दिया जा सका।

केंद्र से नहीं मिला फंड
यातायात सप्ताह आयोजन के लिए केंद्र सरकार द्वारा पुलिस विभाग को फंड जारी किया जाता है। करीब एक से डेढ़ लाख रुपए यातायात सप्ताह आयोजन में खर्च होते हैं, लेकिन इस बार सरकार ने लोगों को जागरुक करने के लिए फंड ही जारी नहीं किया। इसके चलते यातायात सप्ताह भी आयोजित नहीं किया गया।

आयोजन में देते जानकारी
यातायात की जागरुकता के लिए शहर से लेकर सभी थाना अंतर्गत कार्यक्रम आयोजित की जाती है। इसमें लोगों को यातायात के नियम बताए जाते हैं ताकि वह सुरक्षित वाहन चालन कर सके। साथ ही स्कूलों में बच्चों को नुक्कड नाटक, चित्र प्रतियोगिता सहित कई कार्यक्रम का आयोजन कर उन्हें जागरुक करती है ताकि वह अपने पालकों को भी इसकी सीख दे सके।

केंद्र व राज्य सरकार के निर्देश पर शहर में यातायात सप्ताह का आयोजन किया जाता है। ऐसे नहीं है कि फंड की कमी होगी। किसी कारण इस बार यातायात जागरुकता सप्ताह का आयोजन नहीं किया गया।
कामता प्रसाद दीवान डीएसपी, यातायात प्रभारी, कवर्धा

Show More
चंदू निर्मलकर Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned