17 साल बाद दिवाली पर सर्वार्थ सिद्धि योग, शुभ मुहूर्त में पूजा से घर में होगी धन की वर्षा

17 साल बाद दीप पर्व पर सर्वार्थ सिद्धि योग बनने जा रहा है। ज्योतिष की दृष्टि से यह योग घर पर मां लक्ष्मी की कृपा बरसाने वाली है। शुभ मुहूर्त में पूजा और मां लक्ष्मी का आह्वान काफी फलदायी होगा।

By: Dakshi Sahu

Published: 11 Nov 2020, 11:07 AM IST

कवर्धा. इस साल दो दिन पुष्य नक्षत्र होने से लोगों ने जमकर खरीदारी की है। ऐसा ही दिवाली तक खुशियों की उम्मीद बढ़ी हैं, क्योंकि 17 साल बाद दीप पर्व पर सर्वार्थ सिद्धि योग बनने जा रहा है। ज्योतिष की दृष्टि से यह योग घर पर मां लक्ष्मी की कृपा बरसाने वाली है। शुभ मुहूर्त में पूजा और मां लक्ष्मी का आह्वान काफी फलदायी होगा। इधर खरीदारी की सबसे बड़ी तिथि धनतेरस पर सुबह से खरीदारी का शुभ मुहूर्त रहेगा। ज्योतिषी के अनुसार दिनभर मनपसंद वस्तुओं की खरीदारी के बाद घर का कोना-कोना दमकेगा। भगवान धनवंतरी के पूजन में 13 दीप रोशन जलेंगे। इस दिन रूप चौदस का संयोग बन रहा है।

दिवाली पर्व के लिए सप्ताह पंद्रह दिन पहले से लोग घारों को चमका रहे। लाइटिंग भी सजने लगी हैं। धनतेरस की खरीदारी का प्लान भी तैयार है। क्योंकि सरकारी विभागों से लेकर निजी कंपनियों के कर्मचारियों को वेतन के साथ ही बोनस भी मिल रहा है। ऐसे समय में अभिजीत संयोग और शुभ मुहूर्त से खुशियां और बढ़ गई हैं। हर सेक्टर का बाजार अब चहकने लगा है। ज्योतिषी अनुसार शुभ नक्षत्र और मुहूर्त की हर तिथियों पर नई वस्तु या प्रापर्टी की खरीदारी विशेष फ लदायी मानी गई है।

दिवाली पर सर्वार्थ सिद्धि का संयोग बना
दीपोत्सव पर 17 साल बाद सर्वार्थ सिधि योग बनने जा रहा है। इससे पहले ऐसा ही संयोग 2003 में बना था। सूर्योदय के साथ यह योग प्रारंभ होगा इसलिए हर प्रकार की खरीदारी के लिए शुभ है। इसलिए तिथि पर घर का कोना-कोना दीप मालाओं से रोशन होगा। महालक्ष्मी का पूजन होगा।

इन तिथियों पर भी शुभ मुहूर्त
11 को उत्तरा फ ाल्गुनी नक्षत्र में महालक्ष्मी योग। दिवाली सप्ताह में 11 नवंबर को उत्तरा फ ाल्गुनी नक्षत्र का संयोग बना है। यह तिथि भी खरीदारी के लिए विशेष है। वर्धमान व चंद्रमा-मंगल की युति से महालक्ष्मी योग है जो अभिष्ट फलदायी है।
12 को गोवत्स द्वादशी की युति खरीदारी का मुहूर्त। इस तिथि की युति के साथ ही धनतेरस का शुभ मुहूर्त प्रारंभ हो रहा है, जो 24 घंटे तक रहेगा। प्रीति योग में प्रापर्टी, ज्वलरी, गाडिय़़ां, इलेक्ट्रॉनिक्स सामग्री, आलमारी, फर्नीचर, बर्तन आदि सामग्री खरीद सकते हैं।
शुक्रवार 13 नवंबर को धनतेरस है। इस तिथि पर प्रदोष और हस्त नक्षत्र के संयोग भी बन रहा है। इसलिए सोना-चांदी के जेवर से लेकर ऑटोमोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर के लिए विशेष रहेगा। ऐसे संयोग में की गई फलीभूत मानी गई है।

Show More
Dakshi Sahu Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned