कौहा पेड़ से निकलता पानी देख ग्रामीणों की हुजुम

ग्राम धमकी में वर्षों पुराने कौहा पेड़ से पानी की धार निकल रहा है, जिसे कई ग्रामीण दैवीय चमत्कार मान कर ग्रहण कर रहे हैं।

By: Yashwant Jhariya

Published: 05 Feb 2021, 09:45 AM IST

कवर्धा . ग्राम धमकी में अजीबो-गरीब मामला सामने आया है। कौहा वृक्ष का नाम सुनकर भले कड़वाहट का एहसास हो, लेकिन यहां का कौहा पेड़ लोगों को न सिर्फ मिठास का अहसास करा रहा है, बल्कि तमाम मर्जो की दवा बना हुआ है। स्थानीय लोगों का दावा है कि ये पानी पीने से फायदा मिलेगा। पानी का स्वाद नारियल पानी जैसा और रंग हल्का मटमैला है।
कवर्धा विकासखंड अंतर्गत ग्राम धमकी में वर्षों पुराने कौहा पेड़ से पानी की धार निकल रहा है, जिसे कई ग्रामीण दैवीय चमत्कार मान कर ग्रहण कर रहे हैं। भले ही मेडिकल साइंस में रोगों को दूर करने के नए प्रयोग किए जा रहे हो और नई चिकित्सा पद्धति से इलाज किया जा रहा हो, लेकिन आधुनिकता के इस दौर में आज भी लोग जड़ी-बूटियों के साथ रोगों को दूर करने का दावा करते हैं। कहावत तो यह है कि अगर दवा विश्वास के साथ ली जाए तो हर रोग दूर हो जाते हैं। यही वजह है कि गुरुवार को धमकी पहुंच मुख्य मार्ग किनारे स्थित कौहा पेड़ से द्रव्य निकलने से ग्रामीणों में कौतूहल का वातावरण है। ग्रामीण इसे दैवीय चमत्कार मानकर बोतलों में भर कर घर ले जा रहे हैं और उस पानी को पीकर अपने आप को रोग मुक्त होने की बात कर रहे हैं। समीप गांव के संतोष कहते हैं कि कौहा के पेड़ से जो पानी निकलता है, उसे पीकर रोग दूर हो जाते हैं। इस पेड़ को देखने के लिए दूर-दराज से लोग गांव पहुंच रहे हैं। ग्रामीण अपने रोगों से मुक्ति पाने के लिए पानी को बोतलों में भरकर ले जा रहे हैं।

चमत्कार मानकर करे रहे पूजा
पेड़ से निकल रहे सफेद द्रव्य को लोग चमत्कार मान रहे हैं। बड़ी मात्रा में निकल रहे इस सफेद द्रव्य को चखकर इसका स्वाद मीठा होना भी बता रहे हैं। जबकि वनस्पति विज्ञान के जानकार इसे सामान्य घटना बता रहे हैं और इस द्रव्य को न पीने की सलाह भी दे रहे हैं। लोग इस पदार्थ को लेकर तरह-तरह के कयास लगा रहे हैं, लेकिन ज्यादातर लोग इसे चमत्कार मानते हुए पूजा-अर्चना कर रहे हैं। वहीं इस पदार्थ को बोतलों में भर कर अपने घर भी ले जा रहे हैं।
लोगों का लगा तांता
पेड़ से पानी निकलने की बात जैसे-जैसे ही फैली। यहां आने वाले लोगों का तांता लगने लगा। लोग अपने अपने हिसाब से कयास लगा रहे हैं और बोतल में भरकर घर ले जाने का सिलसिला लगातार चलता रहा। कुछ लोग इसकी पूजा भी कर रहे हैं। प्रशासन का कोई नुमाइंदा यहां तक नहीं पहुंचा। हालांकि इससे पहले कभी पेड़ से पानी निकलने की बातें सामने नहीं आई है।

Yashwant Jhariya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned