लक्ष्य अनुरूप नहीं हो रहा शक्कर उत्पादन

नए शक्कर कारखाना में हर साल उत्पादन में कमी, 3.8 लाख क्विंटल उत्पादन का लक्ष्य, अब तक 2 लाख उत्पादन हो सका

By: Yashwant Jhariya

Published: 03 Mar 2019, 12:13 PM IST

कवर्धा . 168 करोड़ की लागत से पंडरिया शक्कर कारखाना तो तैयार किया गया, लेकिन यहां लक्ष्य के अनुरूप शक्कर उत्पादन नहीं हो पा रहा है। पिछले दो सीजन में शक्कर उत्पादन को लेकर कारखाना काफी पीछे रहा।
पंडरिया स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना में इस सीजन पेराई चल रहा है। अब तक 2 लाख मीट्रिक टन गन्ना पेराई हो चुका हैं। वहीं 2 लाख क्विंटल शक्कर उत्पादन हो चुका है। यह सीजन करीब अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान कुल 4 लाख मीट्रिक टन गन्ना पेराई किए जाने का लक्ष्य है। इससे अनुमानित करीब 380000 क्विंटल शक्कर उत्पादन का अनुमान है। लेकिन मुख्य बात यह है कि लक्ष्य के अनुरूप गन्ने की पेराई तो होती है, ङ्क्षकतु शक्कर उत्पादन नहीं होता। पिछले दो सीजन यही हुआ। इसके चलते ही प्रशासन को कारखाना के उत्पादन पर नजर रखने की आवश्यकता है।

दो माह और चलेगा कारखाना
सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना में इस सीजन 28 फरवरी तक 210280 मीट्रिक टन गन्ना पेराई किया जा चुका है। वहीं इससे 204402 क्विंटल शक्कर का उत्पादन भी चुका है। औसतन पेराई व उत्पादन तो फिलहाल ठीक है। अब दो माह बाकी हैं, ऐसे में किसी तरह की हेरफेर व गड़बड़ी न हो तो उत्पादन लक्ष्य अनुरूप हो सकता है।
लक्ष्य अनुरूप उत्पादन नहीं
पिछले दो सीजन पर नजर डाले तो पता चलता है कि वर्ष 2016-17 में 2.5 लाख गन्ना पेराई कर मात्र 12786 क्विंटल शक्कर उत्पादन किया गया। जबकि शासन से शक्कर उत्पादन का लक्ष्य 332500 क्विंटल था। वहीं वर्ष 2017-18 में 4 लाख मीट्रिक टन गन्ना पेराई कर 316515 क्विंटल शक्कर उत्पादन किया गया। बढ़त हो हुई, लेकिन शक्कर उत्पादन 380000 क्विंटल थी। वहीं इस वर्ष 4 लाख मीट्रिक टन गन्ना पेराई और 380000 क्विंटल शक्कर उत्पादन का लक्ष्य है।

अत्याधुनिक मशीनें बावजूद अधिक कर्मचारी
पंडरिया स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना में अत्याधुनिक मशीनें लगे हुए। इसके चलते यहां पर मैनपावर कम होने चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं है। यहां तो 16 वर्ष पुराने भोरमदेव शक्कर कारखाना से अधिक लोग कार्यरत हैं। भोरमदेव शक्कर कारखाना पुराना मॉडल है। यहां पर अधिक कर्मचारी लगने चाहिए। वहीं यहां पर 3500 मीट्रिक टन पेराई क्षमता है जबकि सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना 2500। बावजूद अधिक कर्मचारी व मजदूर कार्यरत हैं। इसकी जांच होनी चाहिए।
वर्सन...
4 लाख मीट्रिक टन गन्ना पेराई का लक्ष्य है। अब तक दो लाख से अधिक गन्ना पेराई हो चुका है। शक्कर उत्पादन का लक्ष्य नहीं रहता। वह तो गन्ना पेराई पर निर्भर है।
सतीष पाटले, महाप्रबंधक, सरदार वल्लभ भाई पटेल सहकारी शक्कर कारखाना, पंडरिया

Yashwant Jhariya Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned