छोटे कश्मीर के नाम से मशहूर चिल्फी घाटी में जमने लगी है बर्फ की चादर, तापमान पहुंचा 4 डिग्री पर

यहां पर अभी तापमान गिरने से इस क्षेत्र में ठिठुरन बढ़ गई है। पत्तों और पेड़ पौधों पर ओस की बूंदे बर्फ के रूप में जम रही है।

By: Deepak Sahu

Published: 30 Dec 2018, 12:34 PM IST

चिल्फीघाटी/कवर्धा . पूरे छत्तीसगढ़ में छोटी कश्मीर के नाम से कबीरधाम जिले के चिल्फीघाटी को मशहूर है। यहां पर अभी तापमान गिरने से इस क्षेत्र में ठिठुरन बढ़ गई है। पत्तों और पेड़ पौधों पर ओस की बूंदे बर्फ के रूप में जम रही है।

न्यूनतम तापमान 4 सेल्सियस तक
सतपुड़ा पर्वत कि मैकल श्रेणियों मेंं स्थित चिल्फीघाटी क्षेत्र चौतरफा घिरे हजारों एकड़ में फैला जंगल, चारों ओर साल के वृक्ष ही दिखाई देते हैं। वृक्षों से मध्यरात्रि में ओस की बूंदे नीचे गिरती हैं जिससे पूरा वनांचल क्षेत्र में सर्द मौसम में बदल जाता है। अभी मध्यरात्रि को यहां का न्यूनतम तापमान 4 सेल्सियस तक नीचे जाता है।

ओस की बूंदे बदल रही बर्फ में
ओस की बूंदे बर्फ के रूप में सूखी घास, हरी पत्तियों, धान के खेत में रखे पैरा, फसल, गांव में स्थित घास-फूस, मकानों की छतों में बर्फ के रूप में जम जाती है। लगातार पांच दिनों से चिल्फीघाटी के वनांचल में हाड कंपा देने वाली कड़ाके की ठंड पड़ रही है।

सिर्फ अलाव से होता है ठंड से बचाव
हर वर्ष दिसंबर से लेकर 14 जनवरी तक सर्द हवाओं के साथ कड़ाके की ठंड पड़ती है। पूरा क्षेत्र बैगा आदिवासी बहुल्य है।आर्थिक तंगी के चलते आदिवासी लोग गर्म कपड़े, कंबल, चादर, साल-स्वेटर की जगह सिर्फ अलाव जलाकर पूरी रात ठंड से बचाव करते हैं।

Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned