scriptThe trend of rural farmers moving towards horticulture crops | उद्यानिकी फसलों की ओर बढ़ रहा ग्रामीण किसानों का रूझान | Patrika News

उद्यानिकी फसलों की ओर बढ़ रहा ग्रामीण किसानों का रूझान

जिलें में परंपरागत खेती की स्थान पर अब किसानों का रुझान उद्यानिकी व फलोद्यान की ओर बढ़ा है, जिससे सुखद परिणाम भी सामने आ रहे हैं। अब तो धीरे-धीरे जिले के ग्रामीण इलाकों में केला, पपीता और अमरूद आदि की खेती होने लगी है।

कवर्धा

Published: February 23, 2022 12:29:34 pm

कवर्धा. जिलें में परंपरागत खेती की स्थान पर अब किसानों का रुझान उद्यानिकी व फलोद्यान की ओर बढ़ा है, जिससे सुखद परिणाम भी सामने आ रहे हैं। खास कर युवा किसान आधुनिक कृषि के नये तकीनक को समझ कर इसे खेत में इस्तेमाल कर रहे हैं और बंपर पैदावार हासिल कर रहे हैं। यही कारण है कि अब कृषि को भी राज्य में व्यापार के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि किसान आधुनिक तकनीक को अपनाकर अच्छी कमाई कर रहे हैं।
पारंपरिक खेती को छोड़कर किसान आधुनिक खेती की तरफ बढ़ रहे हैं। इसका उन्हे फायदा भी हो रहा है, खासकर युवा किसान आधुनिक कृषि के नये तकीनक को समझ कर इसे खेत में इस्तेमाल कर रहे हैं और बंपर पैदावार हासिल कर रहे हैं।
क्यारी व बगीचा तैयार करने के लिए किसानों को एक बार की मेहनत करनी पड़ती है। इसके बाद हर साल लाखों का मुनाफा होता है। अब तो धीरे-धीरे जिले के ग्रामीण इलाकों में केला, पपीता और अमरूद आदि की खेती होने लगी है। आमतौर पर क्षेत्र में किसानों द्वारा खरीफ सीजन में धान, सोयाबीन और रबी में गेहूं, चना की फसल की व्यापक खेती ली जाती है। इन फसलों पर 30 प्रतिशत खर्च मांगे बीज खाद और दवाइयों के इस्तेमाल से होता है। इसलिए किसानों को मुनाफा मेहनत और लागत के हिसाब से कम मिलता है। वहीं जानकार बताते हैं कि उपरोक्त फसलों पर मौसम परिवर्तन का सबसे ज्यादा असर होता है। अधिक बारिश अथवा सूखा पडऩे पर अनाज व तिलहनी फसलें खराब हो जाती है, जबकि उद्यानिकी फसलों में मौसम का जोखिम कम होता है। तीन-चार साल में किसानों का रुझान उद्यानिकी फलोद्यान की ओर तेजी से बढ़ा है।
केले और पपीते का एक्सपोर्ट
ग्रामीण अंचल के किसानों का रुझान पिछले तीन चार साल से सब्जी तरकारी के साथ केला और पपीते के खेती की ओर बढ़ा है। किसानों द्वारा अब तो सैकड़ों एकड़ में उन्नत खेती की जा रही है। वहीं अब डिमांड के हिसाब से जिले में पैदा होने वाले पपीते की कई वैरायटी ऐसी है, जो अधिक स्वादिष्ट मानी जाती है। जिसकी डिमांड बड़े शहर के अलावा देश के अन्य राज्य में भी खूब है। यहां से केला और पपीता का एक्सपोर्ट होकर विदेश तक भेजा जने लगा है। पारंपरिक खेती से हटकर आधुनिक खेती की तो कमाई बढ़ गयी।
आधुनिक खेती के फायदे
गांव में रहने वाले किसान संतोष मुख्य रुप से सब्जियों की खेती करते हैं, लेकिन गर्मी के मौसम में केला की खेती करते हैं। फिलहाल उनकी पांच एकड़ जमीन में ड्रिप इरिगेशन लगा हुआ है। इसके अलावा उन्होंने दो बार उन्नत खेती के लिए प्रशिक्षण भी लिया है। ड्रिप इरिगेशन से फायदा यह हुआ है कि पानी की समुचित उपयोग कर पानी बचत हो रही है। जिस पानी से पहले वो फ्लड इरिगेशन तकनीक से साल में एक फसल ले पाते थे, अब उसी पानी से तीन फसल ले पा रहे हैं। इससे उन्हें प्रतिवर्ष लाखों रुपए की कमाई हो रही है।
उद्यानिकी फसलों की ओर बढ़ रहा ग्रामीण किसानों का रूझान
उद्यानिकी फसलों की ओर बढ़ रहा ग्रामीण किसानों का रूझान

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

17 जनवरी 2023 तक 4 राशियों पर रहेगी 'शनि' की कृपा दृष्टि, जानें क्या मिलेगा लाभज्योतिष अनुसार घर में इस यंत्र को लगाने से व्यापार-नौकरी में जबरदस्त तरक्की मिलने की है मान्यतासूर्य-मंगल बैक-टू-बैक बदलेंगे राशि, जानें किन राशि वालों की होगी चांदी ही चांदीससुराल को स्वर्ग बनाकर रखती हैं इन 3 नाम वाली लड़कियां, मां लक्ष्मी का मानी जाती हैं रूपबंद हो गए 1, 2, 5 और 10 रुपए के सिक्के, लोग परेशान, अब क्या करें'दिलजले' के लिए अजय देवगन नहीं ये थे पहली पसंद, एक्टर ने दाढ़ी कटवाने की शर्त पर छोड़ी थी फिल्ममेष से मीन तक ये 4 राशियां होती हैं सबसे भाग्यशाली, जानें इनके बारे में खास बातेंरत्न ज्योतिष: इस लग्न या राशि के लोगों के लिए वरदान साबित होता है मोती रत्न, चमक उठती है किस्मत

बड़ी खबरें

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम के बेटे के घर पर CBI की रेड, कार्ति बोले- कितनी बार हुई छापेमारी, भूल चुका हूं गिनतीकुतुब मीनार और ताजमहल हिंदुओं को सौंपे भारत सरकार, कांग्रेस के एक नेता ने की है यह मांगकोर्ट में ज्ञानवापी सर्वे रिपोर्ट पेश होने में संशय, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट में एक बजे सुनवाई, 11 बजे एडवोकेट कमिश्नर पहुंचेंगे जिला कोर्टहरियाणा: हरिद्वार में अस्थियां विसर्जित कर जयपुर लौट रहे 17 लोग हादसे के शिकार, पांच की मौत, 10 से ज्यादा घायलConstable Paper Leak: राजस्थान कांस्टेबल परीक्षा रद्द, आठ गिरफ्तार, 16 मई के पेपर पर भी लीक का सायाShivling In Gyanvapi: असदुद्दीन ओवैसी का अजीबोगरीब दावा, ज्ञानवापी में शिवलिंग नहीं, फव्वारा मिलाशिवलिंग मिलने के बाद वायरल हुआ ज्ञानवापी का वीडियों, आप खुद ही देखें क्या है सच्चाईनारी शक्ति : दूल्हे और उसके दोस्तों का हुड़दंग देखकर दुल्हन ने लौटाई बारात, दूसरे के संग लिए फेरे
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.