24 घंटे में 22 मरीज मिले, 668 हुआ कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा

-सामुदायिक संक्रमण की आशंका, बाजार से घर जा रहा संक्रमण
-बिना कांटेक्ट ट्रेसिंग वाले मरीज बने परेशानी, संपर्क ढूंढना मुश्किल
-80 वर्षीय वृद्धा ने दी कोरोना को मात, घर वापसी करने वालों की संख्या हुई 550

खंडवा.
जुलाई के बाद अगस्त में भी कोरोना का कहर जारी है। पिछले 24 घंटे में तीन अलग-अलग रिपोर्ट में 22 नए मरीज मिले है। जिले में अब कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 668 हो गया है। नए मरीजों में कांटेक्ट ट्रेसिंग के साथ बिना कांटेक्ट ट्रेसिंग के भी मरीज सामने आ रहे है। बिना कांटेक्ट ट्रेसिंग के मिले मरीज स्वास्थ्य विभाग के लिए परेशानी का सबब बनेंगे। इन मरीजों तक कोरोना संक्रमण कैसे पहुंचा इसका पता लगाना स्वास्थ्य विभाग के लिए एक चुनौती बन गया है।
शनिवार देर रात और सोमवार शाम मेडिकल कॉलेज से दो अलग-अलग रिपोर्ट में 21 मरीज पॉजिटिव मिले है। वहीं, एक मरीज जिला अस्पताल की ट्रू नाट मशीन से हुई जांच में मिला है। जिला महामारी अधिकारी डॉ. योगेश शर्मा ने बताया कि शनिवार देर रात मेडिकल कॉलेज से 11 मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जिसमें माधवनगर, पंजाब कॉलोनी, पड़ावा, लवकुश नगर, सेक्टर 4 हरसूद, बमनगांव, खानशाहवली के 1-1 मरीज व दुबे कॉलोनी के 2, बोरगांव बुजुर्ग के 2 मरीज शामिल है। वहीं, रविवार को जिला अस्पताल की ट्रू नाट मशीन से हुई जांच में दुबे कॉलोनी निवासी एक मरीज पॉजिटिव पाया गया। साथ ही रविवार रात मेडिकल कॉलेज से आई 102 रिपोर्ट में 10 मरीज पॉजिटिव पाए गए। पॉजिटिव मरीजों में पंधाना के वार्ड नंबर 9 के 2 मरीज, बीएड कॉलेज, सिंगोट, विद्युत नगर, ग्राम भुइफल, बाहेती कॉलोनी, गायत्री कॉलोनी खानशाहवली, रामनगर निवासी मरीज शमिल हैं।
80 वर्षीय वृद्धा ने दी कोरोना को मात
शनिवार रात और रविवार दोपहर को कुल 12 मरीजों को ठीक होने पर कोविड अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया। रविवार को डिस्चार्ज किए गए कोरोना विजेताओं में नर्मदापुरम निवासी 80 वर्षीय महिला लक्ष्मीदेवी के साथ उनका बेटा फूलचंद और बहू किरण खंडलेवाल भी शामिल है। बुजुर्ग महिला लक्ष्मीदेवी गंभीर होने के बाद कोरोना को मात देकर अपने घर वापसी करने में सफल रही। अब जिले में ठीक होकर घर वापसी करने वाले मरीजों की संख्या 550 हो गई है।
लापरवाही पड़ रही भारी
जिला महामारी अधिकारी डॉ. योगेश शर्मा ने बताया कि कांटेक्ट ट्रेसिंग के अलावा नए मरीजों का मिलना भी जारी है। नए 22 मरीजों में से 8 कांटेक्ट ट्रेसिंग वाले और 14 प्रायवेट प्रेक्टिशनर, पैथालॉजी लैब और विभिन्न ओपीडी से मिले है। इन मरीजों के कांटेक्ट तलाश किए जा रहे हैं। नए स्थानों से अनजान व्यक्ति को कोरोना संक्रमण होना चिंता का विषय है। वो व्यक्ति कहां गया था, किस से मिला, किस संपर्क से उसे संक्रमण हुआ ये सब पता लगाना पड़ रहा है। बाजार में बढ़ रही भीड़ से कोरोना संक्रमण के तेजी से फैलने का खतरा बना हुआ है। सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, सैनेटाइजर, हैंडवॉश का पालन नहीं करना भारी पड़ रहा है।

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned