Cattle smuggling - कत्लखाने ले जाए जा रहे 60 मवेशियों को मिला जीवनदान

इंदौर-इच्छापुर हाइवे पर 15 किलोमीटर पीछा कर पुलिस ने मवेशियों से भरा कंटेनर पकड़ा, चार आरोपी गिरफ्तार

By: tarunendra chauhan

Published: 27 Jul 2020, 11:36 AM IST

खंडवा. इंदौर-इच्छापुर हाइवे पर गौवंश तस्करी रुकने का नाम नही ले रही है। लगातार कार्रवाई के बाद भी तस्कर बेखौफ महाराष्ट्र कत्लखाने मवेशी पहुंचाने का काम कर रहे हैं। रविवार दोपहर बोरगांव पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि कंटेनर क्रमांक यूपी 21 बीएन 8668 से मवेशियों की तस्करी की जा रही है। चौकी प्रभारी जगदीश सिंग सिंद्या ने तस्करों को दबोचने जाल फैलाया।

पुलिस ने कंटेनर का डुल्हार से पीछा करना शुरू किया। इस दौरान तस्करों को पुलिस वाहन पीछे देख कुछ संदेह हुआ और उन्होंने कंटेनर की स्पीड बढ़ा ली। पुलिस ने तस्करों के कंटेनर छोड़ भागने के डर से पुलिस वाहन को धीमा कर दूरी बना ली और बोरगांव में बैठी टीम को सतर्क कर दिया। इधर तस्करों ने पुलिस को गुमराह करने के लिए बोरगांव से पहले ही एक ढाबे पर कंटेनर को खड़ा कर पीछे आ रही टीम ने कंटेनर को ढाबा क्षेत्र मे घुसते देख दूसरी टीम को सूचना देकर ढाबे पर बुलाया और चारों तस्करों को ढाबे पर ही दबोच लिया। अचानक कार्रवाई से ढाबे के सामने लोगों की भीड़ लग गई। कंटेनर को दो पार्ट में बांट ठूंस-ठूंसकर मवेशी भरे हुए थे। पुलिस ने चारों तस्करों को गिरफ्तार कर पुलिस चौकी भेजा और कंटेनर को गौशाला रवाना किया। खबर लिखे जाने तक कंटेनर से 30 से अधिक मवेशी निकाले जा चुके थे।

पुलिस ने बताया कि कंटेनर से आरोपी वकील अली पिता अजीज अली 29 वर्ष, संतोष पिता भंवरलाल 45 वर्ष, इरफान पिता युसूफ अली 27 वर्ष तीनों निवासी सारंगपुर व मोसीन पिता हयात 25 वर्ष निवासी देवास को गिरफ्तार किया है। पूछताछ मे आरोपियों ने बताया कि कंटेनर में गुना से मवेशी भरे थे और सावदा-रावेर महाराष्ट्र लेकर जा रहे थे। साथ ही आरोपियों ने पुलिस को पूछताछ मे बताया है कि 60 मवेशी कंटेनर मे भरे हुए हैं।

मुखबिर की सूचना पर चारों आरोपियों को दबोच कर उनके खिलाफ मामला पंजीबद्ध कर लिया है और जब्त कंटेनर को खाली करने सीधे गौशाला भेजा गया।
- जगदीश सिंग सिंद्या, चौकी प्रभारी बोरगांव बुजुर्ग

Show More
tarunendra chauhan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned