scriptAmbulances : 15 out of 28 ambulances damaged in this district of MP | मध्य प्रदेश के इस जिले में 28 में से 15 एंबुलेंस खराब, इमर्जेंसी सेवाएं धड़ाम | Patrika News

मध्य प्रदेश के इस जिले में 28 में से 15 एंबुलेंस खराब, इमर्जेंसी सेवाएं धड़ाम

जिले में 15 लाख की आबादी के बीच 13 एंबुलेंस सक्रिय, इमर्जेंसी सेवाओं की काल अटेंड नहीं कर पा रहीं ज्यादातर एंबुलेंस वाहन

खंडवा

Published: April 25, 2022 12:41:02 pm

खंडवा. जिले में आपातकालीन सेवाएं अव्यवस्था की भेंट चढ़ गई है। हैरान करने वाली बात तो यह कि 28 एंबुलेंस में से 15 खराब हैं। खटारा एंबुलेंस इमर्जेंसी सेवा के लिए काल अटेंड नहीं कर पा रहीं हैं। पीडि़त निजी वाहनों के जरिए अस्पताल पहुंच रहे हैं।
Ambulances : 15 out of 28 ambulances damaged in this district of MP
Ambulances : 15 out of 28 ambulances damaged in this district of MP
कबाड़ एंबुलेंस के भरोसे 15 लाख की आबादी
खंडवा में 15 लाख की आबादी कबाड़ एंबुलेंस के भरोसे है। पांच साल से चल रहीं एंबुलेंस कबाड़ हो गई हैं। स्वास्थ्य विभाग के रेकार्ड में 28 एंबुलेंस हैं। जिसमें 10 एंबुलेंस 108 की हैं। 18 जननी एक्सप्रेस है। जिसमें पंद्रह एंबुलेंस ऑफ रोड यानी सडक़ पर चलने लायक नहीं हैं। जिससे आधा दर्जन से अधिक लोकेशन से आपातकालीन के काल अटेंड नहीं हो पा रहे हैं।
प्रतिदिन 30-40 इमर्जेंसी काल
रेकार्ड के अनुसार हर रोज लगभग 15-20 इमर्जेंसी सेवाओं के लिए एंबुलेंस समय से नहीं पहुंच रही है। जिससे पीडि़त निजी वाहन से अस्पताल पहुंच रहे हैं। सक्रिय एंबुलेंस को धक्का लगाना पड़ रहा है। अधिकारियों का दावा है कि आपातकालीन की प्रतिदिन औसत 30-40 काल अटेंड हो रहे हैं। मेंटीनेंस के अभाव में दर्जनों एंबुलेंस के टायर की गोटियां तक नहीं हैं।
ज्यादातर एंबुलेंस में इक्विमेंट भी नहीं
आपातकाली सेवा में लगी अधिकतर एंबुलेंस वाहनों में मेडिकल इक्विमेंट नहीं है। जिन वाहनों में इक्विमेंट हैं भी वह भी जर्जर हो गए हैं। जिससे मरीजों को फौरीतौर पर इलाज नहीं मिल पा रहा है।
एक्सटेंशन पर एंबुलेंस कंपनी
जिले में वर्ष 2016 में 108 और जननी एंबुलेंस सेवाएं शुरू की गई। जिगित्सा कंपनी को ठेका मिला था। बीते वित्तीय वर्ष में ठेका खत्म हो गया। नई कंपनी को ठेका मिल गया है। नई कंपनी काम चालू नहीं कर सकी। जिससे जिगित्सा को ही 31 अप्रैल तक एक्सटेंशन दे दिया गया है। कुछ दिनों के एक्सटेंशन के कारण काम नहीं कर रही है। इधर, एंबुलेंस की देखरेख कर रही ठेका कंपनी के स्थानीय कार्यालय में ताला लगा है।
एंबुलेंस के ये हैं मुख्य लोकेशन
जिले में एंबुलेंस के 10 लोकेशन बनाए गए हैं। चार नए लोकेशन बनाए गए हैं। लेकिन एंबुलेंस नहीं है। जिससे सेवाएं चालू नहीं हो पा रहीं हैं। वर्तमान समय में पदमनगर, कोतवाली, पंधाना, छैगांव माखन, पुनासा, मूंदी, किल्लोद, हरसूद आदि लोकेशन बनाए गए हैं।
वर्जन...
इमर्जेंसी सेवाओं के लिए एंबुलेंस चल रहीं हैं। खराब एंबुलेंस को ठीक करने के लिए पत्र भेजा गया है। नए वाहनों के आने की प्रक्रिया चल रही है।
डॉ डीएस चौहान, सीएमएचओ

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीश्योक नदी में गिरा सेना का वाहन, 26 सैनिकों में से 7 की मौतआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानतRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चआजम खान को सुप्रीम कोर्ट से फिर बड़ी राहत, जौहर यूनिवर्सिटी पर नहीं चलेगा बुलडोजरMumbai Drugs Case: क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को NCB से क्लीन चिट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.