दस लाख रुपए लोन दिलाने के नाम पर बैंक मैनेजर ने की 92 हजार की धोखाधड़ी

आंध्रा बैंक के तत्कालीन मैनेजर का कारनामा, शिकायत पर पुलिस ने दर्ज किया धोखाधड़ी का प्रकरण

By: Hitendra Sharma

Published: 12 Feb 2021, 08:20 AM IST

खंडवा. दस लाख रुपए की लोन दिलाने के नाम पर आंध्रा बैंक के तत्कालीन बैंक मैनेजर द्वारा धोखाधड़ी करने का एक और मामला उजागर हुआ है। फरियादी की शिकायत पर मोघट पुलिस ने तत्कालीन बैंक मैनेजर शिशुपाल पिता जयपाल सिंह आर्या के खिलाफ धोखाधड़ी का प्रकरण दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार फरियादी अमनसिंह खनूजा निवासी रमा कालोनी ने आंध्रा बैंक के तत्कालीन बैंक मैनेजर शिशुपाल के खिलाफ धोखाधड़ी करने को लेकर शिकायती आवेदन दिया था। आवेदन की जांच करते हुए तत्कालीन बैंक मैनेजर के खिलाफ प्रकरण दर्ज किया है। आरोपी बैंक मैनेजर ने लोन दिलाने की नाम पर फरियादी से 92 हजार रुपए की धोखाधड़ी की है। इसके पहले भी आरोपी बैंक मैनेजर वाहन खरीदी के लिए लोन दिलाने को लेकर धोखाधड़ी कर चुका है। उक्त मामले में प्रकरण दर्ज है।

होटल व्यवसाय के लिए मांगा था लोन
पुलिस के अनुसार फरियादी अमनसिंह खनूजा ने शिकायती आवेदन में बताया था आंध्रा बैंक पडावा शाखा में बचत खाता है। होटल व्यवसाय खोलने के लिए लोन की जरूरत थी। दोस्त विशाल ने आंध्रा बैंक के मैनेजर से बात करने की बात कही। बैंक पहुंचकर तत्कालीन मैनेजर शिशुपाल से मिले और दस लाख रुपए लोन की बात कही। उन्होंने लोन दिलाने में सहमति जताई। इसके बाद लोन के लिए जरूरी दस्तावेज 6 जनवरी 2020 को दिए। कुछ दिन बाद शिशुपाल ने कहा लोन स्वीकृत हो गया है। फाइल लागिंग, स्टॉप खरीदने और मार्जिन मनी के लिए 92 हजार रुपए देना पड़ेगे। दो-तीन दिन का समय लेकर तत्कालीन बैंक मैनेजर को नकद 92 हजार रुपए दिए। उन्होंने कहा उक्त रुपए खाते में जमा कराकर लोन की राशि भेज दी जाएगी।

तबादला हुआ तो रुपए लौटाने में की आनाकानी
इसके बाद कई दिन बीत गए, लेकिन लोन की राशि खाते में नहीं है। बैंक मैनजर आर्या से बात की तो उन्होंने आनाकानी और गुमराह करना शुरू कर दिया। बैंक पहुंचे तो कर्मचारियों ने बताया शिशुपाल का तबादला इंदौर स्थित आंध्रा बैंक की छावनी शाखा में हो गया है। फोन पर संपर्क किया तो गुमराह करता रहा। उसने न तो रुपए लौटाए और न ही लोन की राशि मिली। मामले में शिकायत की। शिकायत पर पुलिस ने आंध्रा बैंक के तत्कालीन मैनेजर शिशुपाल आर्या के खिलाफ धारा 420 के तहत प्रकरण दर्ज किया है।

Show More
Hitendra Sharma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned