भाजपा नेता का पूरा परिवार कोरोना पॉजिटिव, मिला वीआईपी ट्रिटमेंट

-सुबह आई रिपोर्ट, शाम को पहुंचे कोविड अस्पताल, अलग रूम में रखा
-बुधवार को आई 96 सैंपल की रिपोर्ट, 22 पॉजिटिव, 208 पहुंचा आंकड़ा
-दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों की छुट्टी, 81 मरीज हो चुके अब तक ठीक

खंडवा.
शहर में रविवार से लगातार कोरोना पॉजिटिव मरीजों के मिलने का सिलसिला जारी है। बुधवार को आई 96 सैंपल की जांच रिपोर्ट में 22 मरीज कोरोना संक्रमित पाए गए। इसमें आनंद नगर निवासी भाजपा के एक नेता का पूरा परिवार भी शामिल है। सुबह रिपोर्ट आने के बाद भाजपा नेता के परिवार को शाम 4 बजे कोविड अस्पताल लाया गया। यहां भी नेता के परिवार को वीआईपी ट्रिटमेंट देते हुए सबसे अलग एक रूम में भर्ती किया गया है। इस मामले को लेकर स्वास्थ्य विभाग की कार्रवाई पर अब सवाल उठना शुरू हो गए है। वहीं, बुधवार आई रिपोर्ट के बाद जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा दोहरा शतक पूरा कर गया। जिले में अब कुल 208 कोरोना पॉजिटिव मरीज हो चुके है।
बुधवार सुबह एक बार फिर कोरोना बम शहर में फूटा। सुबह आई सैंपल रिपोर्ट में 22 मरीज पॉजिटिव पाए गए। इसमें आनंद नगर क्षेत्र निवासी भाजपा नेता सहित परिवार के छह लोग, हरिगंज में एक ही परिवार के तीन लोग, सिंधी कॉलोनी क्षेत्र में 3, हाटकेश्वर वार्ड, कुंडलेश्वर वार्ड, सरोजनी नायडू वार्ड सहित शहर के नए क्षेत्र वत्सला विहार और जावर में भी एक मरीज मिला है। वत्सला विहार निवासी मरीज जिला अस्पताल में कार्यरत स्टाफ नर्स का पति बताया जा रहा है। इस नर्स की ड्यूटी कोरोना टीम में लगी हुई है। वहीं, जावर में मिला मरीज पुलिसकर्मी है, जो लगातार कोरोना के चलते ड्यूटी कर रहा था।
इंदौर निजी अस्पताल जाने की थी तैयारी
कोरोना पॉजिटिव मरीजों की सूची आने के बाद आनंद नगर प्रेम परिसर क्षेत्र निवासी भाजपा नेता का परिवार इंदौर निजी अस्पताल जाने की तैयारी में था। यहां मरीजों को लेने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम को भाजपा नेता के परिवार ने अस्पताल जाने से मना कर दिया था। जिसके बाद सोशल मीडिया पर ये बात वायरल हो रही थी। इसके बाद शाम करीब 4.30 बजे नेता और उसके परिजनों को कोविड अस्पताल लाया गया। यहां भी नेता परिवार ने अन्य मरीजों के साथ रहने से मना कर दिया। जिसके बाद कोविड अस्पताल ए-ब्लॉक की चौथी मंजिल पर उन्हें रूम नंबर 402 में रखा गया है।
एसडीएम के सामने स्कूटर पर लाए बुजुर्ग मरीज को
हरिगंज में मिले तीन पॉजिटिव मरीजों को लेने स्वास्थ्य विभाग की टीम घंटाघर पहुंची थी। यहां एसडीएम संजीव पांडे, तहसीलदार प्रतापसिंह आगास्या और कोतवाली टीआई बीएल मंडलोई भी बल सहित मौजूद थे। हरिगंज निवासी दो मरीज तो पैदल घर से आ गए, लेकिन एक बुजुर्ग महिला को एक रिश्तेदार स्कूटर पर बिठाकर लाया। स्वास्थ्य विभाग की टीम का कहना था कि उक्त क्षेत्र में एंबुलेंस नहीं जा सकती थी, इसलिए मरीजों को पैदल ला रहे थे। अब सवाल ये उठता है कि कोरोना पॉजिटिव महिला को दो-पहिया वाहन पर बैठाकर लाने वाले युवक को संक्रमण का खतरा नहीं था। स्वास्थ्य विभाग की इस लापरवाही से संक्रमण के फैलने का भी खतरा क्षेत्र में हो सकता है।
दो मरीज हुए डिस्चार्ज
बुधवार को कोविड अस्पताल के डेडिकेडेड हेल्थ केयर सेंटर से दो मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। बुधवार तक कोविड अस्पताल से डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की संख्या 78 हो गई थी और तीन मरीज इंदौर से ठीक होकर घर पहुंच चुके थे। जिले में कुल 81 मरीज अब तक ठीक हो चुके है। 10 मरीजों की मौत हो चुकी है। 107 मरीज अस्पताल के कोविड सेंटर में भर्ती है, जबकि चार बच्चों को होम क्वॉरेंटीन रखा गया है। जिले में कोरोना के कुल 111 एक्टिव केस बचे हैं। वहीं, बुधवार आई 74 सैंपल की निगेटिव रिपोर्ट के साथ ही अब कुल 2015 रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है।
पॉजिटिव मरीज फैक्ट फाइल...
72 मरीज ट्रिपल सी में भर्ती
22 मरीज डीसीएचसी में भर्ती
13 मरीज डीसीएच आईसीयू में भर्ती
06 मरीजों का इंदौर में चल रहा इलाज
78 मरीज ठीक हुए खंडवा में
03 मरीज इंदौर से ठीक होकर लौटे
07 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत खंडवा में
03 कोरोपा पॉजिटिव मरीजों की मौत इंदौर में
04 बच्चे होम क्वॉरेंटीन पर
208 कुल कोरोना पॉजिटिव मरीज
हैल्थ बुलेटिन
2584 सैंपल अब तक भेजे गए जांच के लिए
2015 सैंपल की रिपोर्ट आई निगेटिव
208 सैंपल की रिपोर्ट आई पॉजिटिव
302 सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी
81 मरीजों की हो चुकी है छुट्टी
10 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की हुई मौत
111 एक्टिव केस जिले में कोरोना के
मां बीमार थी इसलिए देर हुई
आनंद नगर निवासी परिवार के छह लोग पॉजिटिव पाए गए है। घर में एक बुजुर्ग महिला भी पॉजिटिव है जिसे अन्य बीमारियों के चलते परिवार इंदौर ले जाना चाहता था। सभी लोग पॉजिटिव थे इसलिए उन्हें इंदौर जाने से मना कर दिया। सभी को कोविड अस्पताल में भर्ती किया गया है।
डॉ. योगेश शर्मा, जिला महामारी अधिकारी
चौथी मंजिल भी आरंभ करना था
किसी को स्पेशल ट्रिटमेंट नहीं दिया जा रहा है। हमारे लिए सभी मरीज एक समान है। मरीजों की बढ़ती संख्या के कारण हमें चौथी मंजिल पर भी इलाज शुरू करना था। जिसका ट्रायल लेने के लिए हमने यहां बुधवार को मरीज रखे हैं। बाकी आप सब समझते है।
डॉ. अनंत पंवार, मेडिकल कॉलेज

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned