बोरगांव भगोरिया हाट की थी तैयारी, प्रशासन ने हटवाए झूले, दुकानें

बोरगांव बुजुर्ग में देर रात तक बनी रही विवाद की स्थिति

खंडवा. ग्राम में जिले के सबसे बड़े भगोरिया हाट बाजार को लगने से रोकने के लिए शुक्रवार रात को प्रशासन और पुलिस अमले ने कार्रवाई करते हुए झूले और दुकानें हटवाई। इस दौरान विवाद की स्थिति भी बनी। दुकानदारों ने कार्रवाई का विरोध किया, लेकिन प्रशासन के आगे एक न चली। यहां पहुंचीं पंधाना तहसीलदार स्वाति मिश्रा का कहना था कि धारा 144 लागू है और सभी सार्वजनिक आयोजनों पर भी रोक लग चुकी है। रात 11.30 बजे तक चली कार्रवाई के बाद यहां से झूले और दुकानें हटवाई गई।

बोरगांव बुजुर्ग में डोंगरगांव मार्ग पर पुलिस चौकी के सामने मैदान पर लगने वाला भगोरिया हाट बाजार जिले में प्रसिद्ध है। इस हाट बाजार में पंधाना, सिंगोट, गुड़ी सहित आसपास के 20 से अधिक गांव के आदिवासी व ग्रामीण पहुंचते है। यहां शुक्रवार हाट बाजार के साथ ही भगोरिया हाट बाजार लगाने की पूरी तैयारी हो गई थी। भगोरिया हाट में दुकानें भी सजी और झूले भी लग गए। रात 9 बजे यहां तहसीलदार स्वाति मिश्रा, जनपद पंधाना सीइआ्र कांतिलाल सोलंकी, पंधाना थाना प्रभारी राधेश्याम मालवीय, बोरगांव चौकी प्रभारी जगदीश सिंह सिंद्या और पुलिस बल पहुंचा। तहसीलदार ने धारा 144 लागू होने और सार्वजनिक कार्यक्रमों की अनुमति नहीं होने पर यहां से दुकानें हटाने को कहा। जिस पर विवाद की स्थिति बनी।
पहले सूचना देनी चाहिए थी
यहां दुकानदारों और ग्रामीणों का कहना था कि यदि धारा 144 लागू थी तो दिन में ही मुनादी कराकर सूचना दे दी जानी चाहिए थी। सभी लोगों ने खर्च कर दुकानें लगा ली और सामान भी भर लिया, ऐसे में नुकसान कौन भरेगा। तहलीलदार ने कहा कि गांव में साप्ताहिक हाट लगेगा, लेकिन मैदान में भगोरिया हाट नहीं लगेगा। देर रात तक चली बहसबाजी के बाद यहां से दुकानें और झूले हटवाए गए। इस दौरान दुकानदारों ने नुकसानी की भरपाई के लिए तहसीलदार को ज्ञापन भी सौंपा। वहीं, रात में दुकानें न लगे इसलिए यहां पुलिस और पंचायतकर्मियों की ड्यूटी भी लगाई गई है। साथ ही साप्ताहिक हाट बाजार में भी बिना मास्क और सोशल डिस्टेंस पर कार्रवाई के निर्देश तहसीलदार ने दिए है।

अजय पालीवाल
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned