डॉली, कोमल, पूर्णिमा और अवनि बनी चार्टर्ड अकाउंटेंट, किसी ने सोशल मीडिया से रखी दूरी तो कोई असफलता से नहीं डरा

डॉली, कोमल, पूर्णिमा और अवनि बनी चार्टर्ड अकाउंटेंट, किसी ने सोशल मीडिया से रखी दूरी तो कोई असफलता से नहीं डरा
ca result in hindi

Amit Jaiswal | Updated: 14 Aug 2019, 01:11:22 PM (IST) Khandwa, Madhya Pradesh, India

सीए में बेटियों का चौका, पहली बार एकसाथ चार...सीए फाइनल और फाउंडेशन के रिजल्ट की घोषणा। पहले ही प्रयास में डॉली ने दोनों ग्रुप क्लीयर किए।

खंडवा. बेटियां किसी से कम नहीं हैं। ये बात एक बार फिर साबित हुईं हैं। डॉली, कोमल, पूर्णिमा और अवनि अब चार्टर्ड अकाउंटेंट बन गईं हैं। शहर के इतिहास में एक परिणाम में चार सीए पहली बार निकलकर सामने आए हैं।
सीए की परीक्षा देने वाले उम्मीद्वारों का इंतजार खत्म हो गया। इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स की ओर से सीए फाइनल परीक्षा परिणाम मंगलवार को जारी किया गया है। शहर के लिए इसमें खुशियों का चौका है। डॉली वासवानी ने जहां पहली बार में ही दोनों ग्रुप क्लीयर कर खुद को साबित किया है तो वहीं कोमल अग्रवाल, पूर्णिमा सोनी और अवनि झंवर भी सफलता प्राप्त करने वाली फेहरिस्त में है। सीए फाइनल के साथ ही फाउंडेशन (आइसीएआइ) परीक्षा का रिजल्ट घोषित किया गया है। सीए फाउंडेशन में सोनाली कटारे ने 400 में से 240 अंक प्राप्त कर इंटरमीडिएट की तरफ कदम बढ़ाए हैं। खंडवा शहर के लिए ये बड़ी बात है कि सीए जैसे प्रोफेशन में यहां के विद्यार्थी लगातार सफलता हासिल कर रहे हैं। ये आने वाले जनरेशन के लिए भी काफी हद तक मोटिवेशन है।

सफलता के चेहरे...बेटियों ने बनाया नया कीर्तिमान
1. पढ़ाई में इमानदार बनो
नाम: डॉली वासवानी
अंक: 401/800
माता-पिता: सोना-रामचंद वासवानी
सक्सेस मंत्र: मैंने रोज 7-8 घंटे पढ़ाई की, लेकिन जितना पढ़ा वो इमानदारी से। मम्मी-पापा का सपोर्ट रहा।

2. धैर्य न खोएं, स्मार्ट स्टडी करें
नाम: कोमल अग्रवाल
अंक: 421/800
माता-पिता: रेखा-सुरेश कुमार अग्रवाल
- स्मार्ट स्टडी पर फोकस करें, धैर्य बिल्कुल न खोएं क्योंकि सेकंड ग्रुप के लिए मुझे भी तीसरा प्रयास करना पड़ा।

3. असफलता से न डरें
नाम: पूर्णिमा सोनी
अंक: 427/800
माता-पिता: भारती-केआर सोनी
सक्सेस मंत्र: छह महीने लगातार 14-15 घंटे पढ़ाई की। प्लानिंग होनी चाहिए। असफलता से बिल्कुल न डरें।

4. सोशल मीडिया से रही दूर
नाम: अवनि झंवर
अंक: 400/800
मम्मी-पापा: प्रीति-संजय झंवर
सक्सेस मंत्र: 10 से 12 घंटे पढ़ाई का शेड्यूल था। सोशल मीडिया से दूर रही। यू-ट्यूब पर मोटिवेशन वीडियो देखे।

- सीए के प्रमोशन के लिहाज से रिजल्ट बहुत अच्छा है। खंडवा में ही अब बेसिक से एडवांस तक की सुविधाएं भी उपलब्ध है। सीए में इतना स्कोप है कि इसे देखते हुए 90 फीसदी अंक लाने वाला बच्चा भी कॉमर्स ले रहा है। आर्थिक नजरिए से भी देखे तो अन्य कोर्स के मुकाबले इसमें कम खर्च आता है।
सचिन गोरे, विशेषज्ञ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned