बुरहानपुर में बंद हुई सीडी-4 की जांच, खंडवा आ रहे मरीज

-60 किमी का सफर कर खंडवा आना पड़ रहा एचआईवी संक्रमितों को
-जिला अस्पताल के एआरटी सेंटर पर बढ़ा बोझ, हो रही जांच में देरी

खंडवा. जिला अस्पताल स्थित एचआईवी/एड्स की जांच के लिए बने एआरटी सेंटर में क्षमता से अधिक जांचें हो रही है। इसका कारण बुरहानपुर के एआरटी सेंटर में तकनीशियन नहीं होना है। बुरहानपुर से एचआईवी/एड्स के संभावित संक्रमितों को जांच के लिए खंडवा भेजा जा रहा है। जिसके चलते इन मरीजों की भी परेशानी बढ़ गई है। वहीं, खंडवा एआरटी सेंटर में अतिरिक्त बोझ बढऩे से जांच में भी समय लग रहा है।
करीब आठ साल पहले जिला अस्पताल में एआरटी सेंटर शुरू किया गया था। तत्कालीन समय में बुरहानपुर के मरीज खंडवा भेजे जाते थे। इसके बाद बुरहानपुर में भी एआरटी सेंटर होने से एचआईवी संक्रमितों को खंडवा आने-जाने में लगने वाला समय और किराया दोनों बचता था। पिछले एक माह से बुरहानपुर के एआरटी सेंटर में एचआईवी संक्रमितों की होने वाली जांच सीडी-4 बंद हो गई है। जिसके चलते एक बार फिर एचआईवी संक्रमितों को खंडवा आना जाना पड़ रहा है। खंडवा में बुरहानपुर से आने वाले मरीजों की सीडी-4 की जांच सोमवार और मंगलवार ही की जा रही है। जिसके कारण मरीजों की लंबी कतार इन दो दिनों तक देखी जा सकती है।
पहले से हो रही खरगोन के मरीजों की जांच
खंडवा एआरटी सेंटर पर पहले से ही खरगोन के मरीजों की जांच हो रही है। खरगोन में एआरटी सेंटर बनने के बाद से यहां तकनीशियन नहीं होने से वहां से प्रति सप्ताह 40 से 50 मरीज जांच के लिए खंडवा आते है। अब बुरहानपुर में भी एआरटी सेंटर पर जांच बंद होने से वहां से भी प्रति सप्ताह 80 से अधिक मरीज आ रहे है। जिसके चलते खंडवा के एआरटी सेंटर पर प्रति सप्ताह खंडवा के 40 से 50 मरीजों की जांच के साथ खरगोन और बुरहानपुर के मरीजों की जांच का भी बोझ आ गया है। जिसके कारण जांच रिपोर्ट में देरी हो रही है।

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned