script मुख्यमंत्री के आदेश गांव में रात्रि विश्राम की निकली हवा, बंगलों में खर्राटा ले रहे अफसर | Chief Minister's order: Instructions for night rest in the village | Patrika News

मुख्यमंत्री के आदेश गांव में रात्रि विश्राम की निकली हवा, बंगलों में खर्राटा ले रहे अफसर

locationखंडवाPublished: Jan 15, 2024 11:50:04 am

Submitted by:

Rajesh Patel

शासन के आदेश के बाद भी गांव स्तर पर आला अफसरों के नहीं लगे कैंप

Colonizers suppressed land revenue of lakhs, administration gave notice
Colonizers suppressed land revenue of lakhs, administration gave notice
मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव की संभाग स्तरीय समीक्षा के बाद जिला प्रशासन जनता की सुनवाई को लेकर एक्शन मोड पर है, लेकिन अभी दूरस्थ ग्रामों में रात्रि विश्राम और कैंप शुरू नहीं हो सका है। कलेक्टर अनूप कुमार सिंह ने टीएल बैठक में सीइओ से लेकर पटवारियों तक को गांव में रात्रि विश्राम के निर्देश दिए लेकिन एक सप्ताह बाद भी, एक भी नाइट विश्राम नहीं हो पाया। कुछ अधिकारियों ने फील्ड विजिट शुरू किया है, लेकिन अभी ग्रामीण स्तर पर रात्रि कैंप नहीं किया है।
मुख्यालय पर ठहरने के साथ गांव में कैंप के निर्देश दिए

मुख्यमंत्री ने कहा है कि अधिकारी, पटवारी रात्रि में मुख्यालय पर ठहरें और ग्रामीणों की समस्याएं सुनें। संभाग मुख्यालय पर रात्रि चौपाल शुरू हो गई, लेकिन जिले में रात्रि कैंप शुरू नहीं हो सका है। कलेक्टर ने राजस्व, पंचायत अधिकारियों को मुख्यालय पर ठहरने के साथ गांव में कैंप के निर्देश दिए। सोमवार को दूसरी टीएल बैठक है। एक सप्ताह के बाद भी अधिकारी गांव में न तो कैंप किए और न ही रात्रि विश्राम। अभी तक शेड्यूल तक तय नहीं है।
खालवा ब्लाक में समीक्षा करने पहुंचे थे

दो दिन पहले जिपं सीइओ शैलेंद्र कुमार सिंह सोलंकी खालवा ब्लाक में समीक्षा करने पहुंचे थे। इससे पहले उन्होंने कुछ गांवों में जनता से चर्चा की, विकास की प्रगति देखी। सरकार की मंशा के अनुरूप अभी तक दूरस्थ गांव में रात्रि चौपाल नहीं लगी। ऐसे में जनता के लिए शासन के जारी किए गए आदेश बेमानी हैं। यहां तक कि कलेक्टर खुद भी किसी गांव में रात्रि विश्राम के लिए नहीं पहुंचे हैं। ऐसे में सरकार की मंशा के अनुरूप योजनाओं का क्रियान्वयन कमजोर है।
पटवारी भी गांवों तक नहीं पहुचे

राजस्व प्रकरणों के निराकरण के लिए पटवारियों को रात्रि ठहरने के निर्देश हैं। अभी तक पटवारियों ने रात्रि नहीं रुके। पटवारी संघ के पदाधिकारियों ने बताया कि अभियान के दौरान 15 जनवरी से इसकी शुरूआत होगी, अभी तक इसका क्रियान्वयन नहीं हो पाया था।
अधिकारी गांव में रात्रि विश्राम कर वहां की समस्याएं
मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव ने भोपाल में पहली बैठक में कहा था कि अधिकारी गांव में रात्रि विश्राम कर वहां की समस्याएं जानें और उन्हें हल करें। पटवारी और ग्राम स्तर के अधिकारी-कर्मचारी जनता को सेवाएं देने मुख्यालय और मैदान स्तर पर सक्रिय रहें। कानून व्यवस्था बेहतर बनाने कलेक्टर और पुलिस अधिकारी निरंतर समीक्षा करें।
फील्ड विजिट के निर्देश दिए गए हैं

कैंप लगाने और फील्ड विजिट के निर्देश दिए गए हैं। टीएल बैठक में रिव्यू करेंगे। एक सप्ताह में कितने कैंप लगे, और किन विभागों के अधिकारियों ने कैंप लगाकर निराकरण किया। लापरवाही पर जवाबदेही तय करेंगे। अनूप कुमार सिंह, कलेक्टर

ट्रेंडिंग वीडियो