बिजली कंपनी की नई तरकीब: ऑनलाइन बिल भुगतान पर 5 रु. से एक हजार रुपए तक दे रही छूट

बिजली कंपनी ने बिल जमा करने के लिए ग्राहकों को आकृर्षित बरने अपनाई तरकीब

By: dharmendra diwan

Updated: 05 Apr 2020, 11:39 PM IST

खंडवा. कोरोना वायरस महामारी संक्रमण से बचाव के लिए लॉकडाउन में बिजली कंपनी ने अप्रैल माह में उपभोक्ताओं के घर-घर बिल नहीं पहुंचाएगी। उपभोक्ताओं को कंपनी की वेबसाइट से अपना ई-बिल डाउनलोड करना होगा। इन बिजली बिलों का ऑनलाइन भुगतान करने पर उपभोक्ता को .5 प्रतिशत यानि 5 रुपए से 1 हजार रुपए तक की छूट मिलेगी। मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने उपभोक्ताओं को बिल जमा करने आकृर्षित और अप्रैल माह में मिले वसूली के टारगेट को पूरा करने के लिए यह तरकीब अपनाई है।
उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस महामारी ने विश्वभर में कोहराम मचा कर रखा है। वायरस से बचाव के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन का लॉक-डाउन किया है। लॉकडाउन होने से मार्च माह की रीडिंग बिजली कंपनी ने नहीं की है। लॉक-डाउन का पालन कराने के लिए कंपनी इस बार बिल की हार्डकाफी भी घर-घर नहीं भिजवा रही। घर बैठे ही बिल डाउनलोड व बिल ऑनलाइन भुगतान की सुविधा दी है। ताकि उपभोक्ता बिल जमा करने के लिए घर से न निकले। हालांकि ऑनलाइन बिल भुगतान प्रणाली करीब सवा साल से चल रही है। फिर भी कई उपभोक्ता ऐसे है। जो आज भी बिल जमा करने बिजली दफ्तर आते है। उन सभी लोगों को कोरोना से बचाव के लिए ऑनलाइन बिल जमा करने पर .5 फीसदी की छूट दे रही है।

वेबसाइड पर अपलोड होने लगे बिल, ऐसे करें डाउनलोड

मप्र पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी की वेबसाइड www.mpwz.co.in पर उपभोक्ताओं के बिल अपलोड होना शुरू हो गए। वेबसाइट पर उर्जस ऑप्शन में जाकर उपभोक्ता क्लिक करें। आईवीआरएस क्रमांक डालने के बाद बिल डाउनलोड हो जाएगा और स्क्रीन पर आ जाएगा। वेबसाइड पर उपभोक्ता अपना पिछले दो माह की फोटो रीडिंग ऑनलाइन भी देख सकता है।

बिलों का ऐसे करें भुगतान, मिलेगी छूट
बिल जमा करने वाले उपभोक्ताओं को 0.5 प्रतिशत की छूट मिलेगी। जिसमें निम्नदाब (एलटी कनेक्शन) उपभोक्ता को न्यूनतम 5 रुपए और अधिकतम 20 रुपए की छूट मिलेगी। इसी प्रकार उच्चदाब (एचटी कनेक्शन) उपभोक्ताओं को अधिकतम एक हजार रुपए तक छूट मिलेगी। उपभोक्ता कंपनी की उर्जस एप, फोन-पे, पेटीएम, एमपी ऑनलाइन पोर्टल, भीमेप, अमेजन-पे के माध्यम से बिल जमा कर सकते है।

मार्च माह की नहीं हो पाएगी रीडिंग, बिलों का भी वितरण नहीं होगा

जिले में मीटर रीडिंग लेने का कार्य हर माह 20 तारीख के बाद से ही शुरू होता है। इस माह 22 मार्च को जनता कफ्र्यू के बाद से ही कोरोना वायरस बचाव को लेकर पाबंदी शुरू हो गई। जिसके बाद 21 दिन का लॉक-डाउन शुरू हो गया। जिससे रीडिंग का कार्य रूक गया। स्थिति को देखते हुए पिछले माह की रीडिंग के आधार पर इस माह बिल बनाएं जाएंगे। अगले माह की रीडिंग प्राप्त होने पर प्रावधिक रूप से भुगतान की गई राशि का स्वत: समायोजन हो जाएगा।

फैक्ट फाइल
निम्न दाब उपभोक्ता 2.25 लाख

उच्च दाब उपभोक्ता 100
ऑनलाइन बिल जमा करने वाले उपभोक्ता 88 हजार

लॉक-डाउन में कोरोना वायरस संक्रमण से जनता की सुरक्षा के लिए अप्रैल में उपभोक्ता को हार्ड कॉपी घर नहीं पहुंचेगी। बिजली भुगतान केंद्र भी बंद रहेंगे। उपभोक्ता अपने मोबाइल से कंपनी की वेबसाइड से बिल डाउनलोड कर ऑनलाइन भुगतान करें। प्रत्येक बिल पर छूट प्रदान की जाएगी। -एसआर सेमिल, अधीक्षण यंत्री, मप्रपक्षेविवि कंपनी, खंडवा सर्कल।

Show More
dharmendra diwan Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned