अतिक्रमण रखने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष मांग रहे 2 लाख रुपए

-गांधी भवन के दुकानदारों ने लगाया कांग्रेस अध्यक्षों पर आरोप
-शहर कांगे्रस अध्यक्ष ने बताया झूठा आरोप, कहा सबूत पेश करें
-अतिक्रमण हटाने के लिए ऊपर से निर्देश, शहर की स्वच्छता, सौंदर्यीकरण हमारी जिम्मेदारी

खंडवा. कांग्रेस कमेटी के गांधी भवन की दुकानों को हटाने को लेकर दुकानदारों ने कांग्रेस अध्यक्षद्वय पर गंभीर आरोप लगाए हैं। रविवार को टैगोर पार्क में एकत्रित हुए दुकानदारों ने जिला कांग्रेस ग्रामीण अध्यक्ष और शहर कांंगे्रस अध्यक्ष पर प्रतिमाह 3-3 हजार रुपए की वसूली किए जाने व दो लाख रुपए मांगने का आरोप लगाया है। जबाव में शहर कांग्रेस अध्यक्ष ने इसे झूठा आरोप बताते हुए संबंधितों को सबूत पेश करने को कहा। शहर कांग्रेस अध्यक्ष का कहना है कि जब अतिक्रमण मुक्त कर शहर को स्वच्छ व सुंदर बनाने की जिम्मेदारी हमारी भी है। ये सब ऊपर से आए निर्देशों के तहत किया जा रहा है।
रविवार दोपहर 3 बजे टैगोर पार्क में मीडिया के सामने गांधी भवन के दुकानदारों ने अपनी दुकानों को अतिक्रमण के बाहर बताया। दुकानदार सुनील यादव ने बताया कि वर्षों पहले तत्कालीन विधायकों व कांग्रेस कमेटी अध्यक्षों द्वारा दुकानें दी गई है। जिसका तय किराया भी भरा जा रहा है। ग्रामीण कांग्रेस अध्यक्ष ओंकार पटेल व शहर कांग्रेस अध्यक्ष इंदलसिंह पंवार ने जब से पदभार संभाला है, तब से वे दुकानदारों से अनाधिकृत तौर पर 3-3 हजार रुपए भी ले रहे हैं। यादव ने बताया कि 6 फरवरी को अध्यक्षद्वय ने बुलवाकर उनसे मासिक राशि पांच-पांच हजार रुपए करने व दो-दो लाख रुपए दिए जाने की मांग की है। यादव ने बताया अध्यक्षों का कहना था कि ये राशि पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव व कृषि मंत्री सचिन यादव को भेजना है। रविवार शाम को इस आशय का एक ज्ञापन भी दुकानदारों ने कलेक्टर के नाम कलेक्टोरेट में जाकर दिया। इस दौरान दुकानदार फरीद कुरैशी, उमेश कपूर, सुनील यादव, गोलू ठाकुर सहित अन्य शामिल थे।
ट्रस्टियों ने बताया हास्यास्पद आरोप
गांधी भवन का कार्य एक ट्रस्ट के माध्यम से संचालित होता है। जिसमें तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष ही ट्रस्ट का अध्यक्ष होता है। साथ ही तीन आजीवन सदस्य डॉ. मुनिश मिश्र, गुरमीतसिंघ उबेजा और अवधेश सिसोदिया की सहमति भी होती है। दुकानदारों द्वारा रुपए मांगने के आरोप को ट्रस्टी सदस्यों ने भी हास्यास्पद बताया है। ट्रस्टी गुरमीतसिंघ उबेजा ने कहा कि गांधी भवन का सौंदर्यीकरण होना चाहिए। दुकानदारों को समय दिया जाकर वहां से हटवाना चाहिए। रुपए मांगने जैसी बात दुकानदारों को हटाने की कार्रवाई के बाद ही क्यों सामने आ रही है। इस तरह की मांग अध्यक्षद्वय या हमारे बड़े नेता कदापि नहीं कर सकते। वहीं, ट्रस्टी मुनिश मिश्र का कहना है कि जो दुकानें गांधी भवन की सीमा से बाहर हैं, वो प्रशासन देखे कि अतिक्रमण में है या नहीं। जो दुकानें गांधी भवन की सीमा में उनके किरायेदारों को विधिवत तरीके से हटवाना चाहिए। उन्होंने दुकानदारों के आरोप को लेकर कहा कि ये मामला उनकी जानकारी में नहीं है। अरुण यादव और कृषि मंत्री सचिन यादव कभी ऐसी मांग नहीं कर सकते।
सबूत पेश करें आरोप लगाने वाले
कांग्रेस कार्यकर्ता और अध्यक्ष के रूप में हमने लाखों रुपए कांग्रेस के लिए खर्च किए हैं। शहर सौंदर्यीकरण के लिए हम पर भी जनता का प्रेशर है। गांधी भवन भी सुंदर दिखे इसलिए हम प्रयासरत है। जो आरोप लगा रहे हैं, वे खुद अपनी दुकानें किराये पर देकर रुपए कमा रहे हैं। यदि उनके पास रुपए मांगने का सबूत है तो पेश करें। झूठा आरोप लगाकर सनसनी फैलाना ठीक बात नहीं हैं।
ठा. इंदलसिंह पंवार, शहर कांग्रेस अध्यक्ष

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned