भाजपाइ और कांग्रेसी यहां हुए गुत्थमगुत्था, प्रभारी मंत्री ने कहा- एफआइआर कराओ

भाजपाइ और कांग्रेसी यहां हुए गुत्थमगुत्था, प्रभारी मंत्री ने कहा- एफआइआर कराओ
Controversy between BJP and Congress workers

Amit Jaiswal | Updated: 14 Jun 2019, 03:25:00 PM (IST) Khandwa, Khandwa, Madhya Pradesh, India

प्रदेश के लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा खंडवा के प्रभारी मंत्री के सामने हुआ ये सबकुछ।

खंडवा. जल संकट से जूझ रहे खंडवा में शुक्रवार को प्रदेश के स्वास्थ्य एवं जिले के प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट के सामने शिकायत लेकर पहुंचे भाजपाइयों की यहां मौजूद कांग्रेस पदाधिकारियों, पार्षदों और कार्यकर्ताओं से बहस हो गई। बहस इतनी बढ़ी कि भाजपा के विधायक देवेंद्र वर्मा, भाजपा जिला अध्यक्ष हरीश कोटवाले के सामने ही भाजपाई और कांग्रेसी गुत्थमगुत्था हो गए।

ये एक-दूसरे को मारने के लिए खड़े हो गए। दरअसल यहां बहस कांग्रेस के पार्षद इकबाल कुरैशी और भाजपा के पार्षद प्रतिनिधि विक्की बावरे के बीच शुरू हुई जो कि विवाद में तब्दील हो गई। खंडवा के सर्किट हाउस में हुए इस वाकये के बीच यहां जो लोग मौजूद थे, उन्होंने इस लड़ाई को खत्म कराने के लिए प्रयास किए। भाजपाइयों और कांग्रेसियों के बीच यह विवाद 106 करोड रुपए की नर्मदा जल योजना में हुए भ्रष्टाचार की बात को लेकर बढ़ा। बता दें की योजना यहां जब स्वीकृत हुई थी, तब भाजपा की परिषद थी और तब से लेकर अब तक भाजपा के पास ही नगर निगम खंडवा की कमान रही है। अब जबकि प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनी है तो भाजपाइयों द्वारा पाइप लाइन डालने में हुए भ्रष्टाचार की शिकायत पर कांग्रेसियों ने इसी मुद्दे पर तंज कसा। जिसे लेकर बहसबाजी बढ़ गई और मुद्दा मारपीट तक पहुंच गया। प्रभारी मंत्री ने नर्मदा जल योजना की जांच कराकर एफआइआर कराने की बात कही है।

शहर में बढ़ा जलसंकट, टैंकर ही बने सहारा
इधर, नर्मदा जल की सप्लाई शहर में अब शनिवार सुबह ही हो पाएगी। क्योंकि पाइपलाइन में चार स्थानों पर लीकेज है, जिसमें से दो जगह पर सुधार कार्य चल रहा है। जबकि दो एेसे स्थान हैं, जहां अभी लीकेज कम है। यानी कि आगामी दिनों में इनकी वजह से भी सप्लाई प्रभावित हो सकता है। इधर, सुबह 11.30 बजे से सुक्ता फिल्टर प्लांट भी पानी की कमी की वजह से बंद हो जाएगा। यानी कि टैंकर ही सहारा बचेंगे। चारखेड़ा स्थित वाटर ट्रीटमेंट प्लांट से शहर के सर्किट हाउस स्थित संपवेल में आने वाले पानी की मात्रा गुरुवार सुबह 8 बजे से अचानक कम होने लगी। प्रेशर डाउन होने पर जब पाइपलाइन की पेट्रोलिंग की गई तो सामने आया कि चारखेड़ा गांव और मछौंडी के पास के लीकेज बढ़ गए हैं और बड़ी मात्रा में पानी बह रहा है। हालांकि दोपहर ३ बजे तक पंप चलाए गए। 3.30 बजे पंप बंद करने के बाद पाइपलाइन को खाली किया गया। रात 11.30 बजे तक चारखेड़ा गांव में पाइपलाइन को दुरूस्त करने के बाद चारखेड़ा प्लांट के पंप चालू कर दिए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned