पानी के लिए विवादों का सिलसिला शुरू

-दिव्यांग महिला पूर्व पार्षद से हाथापाई
-अंजनी टॉकीज क्षेत्र में महिलाओं ने किया चक्काजाम
-घंटाघर पर महिलाओं ने घेरा पार्षद को, पानी देने की मांग

By: मनीष अरोड़ा

Published: 27 Jun 2021, 10:15 PM IST

Barwani, Barwani, Madhya Pradesh, India

खंडवा.
पानी के लिए दुनिया में तीसरा विश्व युद्ध हो या न हो, लेकिन खंडवा में पेयजल के लिए विवादों की स्थिति निर्मित होना शुरू हो गई है। लोगों का आक्रोश अब सड़क पर आने लगा है। रविवार को लॉक डाउन के बावजूद पानी के लिए लोग भटकते नजर आए। अंजनी टॉकीज क्षेत्र में महिलाओं ने सड़क पर बर्तन रख विरोध प्रदर्शन किया। झीलोद्यान में तो स्थिति भयावह हो गई। यहां दिव्यांग महिला पार्षद के साथ महिलाओं ने झूमाझटकी की। घंटाघर पर भी महिलाओं ने पूर्व पार्षद को घेरा। वहीं, लाल चौकी फिल्टर प्लांट पर भी विवाद की स्थिति बनी।
नर्मदा जल की व्यवस्था फेल होने के बाद शहर में पानी के लिए त्राही त्राही मची हुई है। सुक्ता से महज 4.5 एमएलडी पानी आ रहा है। नगर निगम ने 22 टैंकर पेयजल के लिए लगाए है, निजी टैंकरों से भी जल प्रदाय किया जा रहा है। इसके बाद भी स्थिति सुधरने का नाम नहीं ले रही। रविवार को अंजनी टॉकीज क्षेत्र में रहवासी महिलाओं ने पानी के लिए चक्काजाम कर दिया। महिलाओं का कहना था कि टैंकर भी पार्षदों के खास लोगों के घरों तक जा रहे है। गरीबों को पानी नहीं दिया जा रहा है। मौके पर पहुंचे पदम नगर थाना प्रभारी बलजीत सिंह बिसेन ने महिलाओं को समझाइश दी। पूर्व पार्षद वेदप्रकाश शर्मा ने टैंकर की व्यवस्था कराई, तब जाकर महिलाओं का आक्रोश कम हुआ।
झीलोद्यान पर विवाद, पुलिस ने संभाली स्थिति
जल प्रदाय के केंद्र झीलोद्यान पर भी विवाद की स्थिति बनी। यहां पदमकुंड वार्ड की दिव्यांग पार्षद शारदा अव्हाड़ पानी के टैंकर की व्यवस्था के लिए पहुंचीं। इस दौरान वार्ड की महिलाओं ने उन्हें घेर लिया और झूमाझटकी भी की। जानकारी मिलते ही पुलिस बल यहां पहुंचा और झीलोद्यान का गेट बंद कराया। महिलाओं को समझाइश देकर वापस भेजा गया। वहीं, घंटाघर पर बांबे बाजार क्षेत्र के पूर्व पार्षद सोमनाथ काले को भी महिलाओं ने घेरकर पानी की मांग की। लाल चौकी जल प्रदाय केंद्र पर भी विवाद की स्थिति बनी। यहां पुलिस के साये में टैंकर वितरण किया गया।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned