कोरोना से फिर दो मौत, मृतक संख्या हुई 30, इस माह 8वीं मौत

-डायलिसिस के इंतजार में चली गई बैंककर्मी की जान
-कोविड वार्ड से किया था इंदौर रेफर, बेड नहीं होने से वहां से किया था मना
-इंदौर में भर्ती बुजुर्ग भी हार गए कोरोना से, दो बार आई थी पॉजिटिव रिपोर्ट

खंडवा.
कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या भी बढ़ती जा रही है। शुक्रवार को इंदौर में भर्ती एक बुजुर्ग और खंडवा कोविड डीसीएच वार्ड में भर्ती बैंककर्मी की मौत हो गई। जिले में अब तक ये 30वीं मौत कोरोना से हुई है, जबकि सितंबर माह में ही 8 मरीज कोरोना संक्रमण के चलते मौत के गाल में समा गए। वहीं, पिछले 24 घंटे मेंं 16 मरीजों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव पाई गई। जिले में अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़कर 1267 हो गई है। साथ ही शुक्रवार को 6 मरीज ठीक होकर घर वापस पहुंचे। अब तक जिले में कुल 1030 मरीज कोविड अस्पताल से डिस्चार्ज किए जा चुके है।
अंजनी टॉकीज क्षेत्र निवासी नवीन तांबट (47) की शुक्रवार सुबह डीसीएच वार्ड में कोरोना के चलते मौत हो गई। नवीन कोरोना के साथ ही किडनी की बीमारी से भी जूझ रहे थे। 15 सितंबर को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी और उन्हें कोविड वार्ड में भर्ती किया था। इस दौरान उन्हें निमोनिया भी हो गया था। किडनी की समस्या के चलते उनकी 16 सितंबर को डायलिसिस भी होनी थी, जो कोरोना के कारण नहीं हो पाई। कोविड स्टाफ ने नवीन तांबट को इंदौर भेजने के भी प्रयास किए, लेकिन इंदौर के सरकारी अस्पतालों में जगह नहीं होने से वहां से मना कर दिया गया था। आखिरकार डायलिसिस के इंतजार में उनकी मौत हो गई। वहीं, शुक्रवार को ही इंदौर में भर्ती पदम नगर निवासी शंकरलाल विधानी (65) की भी मौत हो गई। बुजुर्ग शंकरलाल विधानी की करीब डेढ़ माह पूर्व ही बायपास सर्जरी हुई थी। जिसके चलते उनकी तबीयत खराब चल रही थी। जांच कराने पर उनकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव निकली। परिजन इंदौर ले गए। यहां 12 दिन में दो बार उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। शुक्रवार को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। उनके परिवार से अभी भी दो लोग कोरोना संक्रमण के चलते इंदौर में भर्ती है।

मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned