कोरोना वारियर्स... गर्मी और धूप में पूरी किट पहनकर पहुंच रहे संक्रमित मरीज के घर तक

-लगातार किट पहनने से हो रही परेशानी, फिर भी मुंह से नहीं निकल रही उफ
-चार से पांच घंटे रहती शरीर पर किट, सिर्फ पी पाते पानी
-इनका बस एक ही उद्देश्य कोरोना से जीतना है हमें जंग

खंडवा.
तपती धूप, बढ़ते तापमान के बीच शरीर पर पीपीई किट पहने ये कोरोना वारियर्स संक्रमित मरीजों के घर पहुंचकर उनके परिवार के स्वास्थ्य का हाल जान रहे है। शहर के कंटेंमेंट क्षेत्रों में घूमते हुए ये कोरोना वारियर्स न तो धूप की चिंता कर रहे है, न किट के कारण हो रही परेशानी का इनको भान है। लगातार चार से पांच घंटे पीपीई किट पहने होने के कारण ये सिर्फ पानी ही पी पा रहे है। तमाम मुश्किलों के बाद भी इनके मुंह से उफ तक नहीं निकल रही है। इनका सिर्फ एक ही उद्देश्य है कि कोरोना से हर हाल में हमें जीतना है।
शहर में कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आने के बाद से मरीज मिलने वाले क्षेत्रों को कंटेंमेंट एरिया घोषित किया गया है। इन क्षेत्रों में सर्वे दलों को हर घर में जाकर लोगों के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए लगाया गया है। वहीं, कोरोना पॉजिटिव मरीजों के परिवारों तक पहुंचने की जिम्मेदारी 10 मेडिकल मोबाइल टीम की है। ये टीम कोरोना पॉजिटिव मरीज के घर पहुंचकर उसके परिवार में मौजूद हर सदस्य की स्क्रीनिंग कर रही है। संक्रमित मरीज के परिवार के स्वास्थ्य परीक्षण के लिए इन टीमों को पूरी तैयारी के साथ जाना पड़ता है। जिसके लिए इन्हें पीपीई किट पहनना अनिवार्य है। किट में पूरी ड्रैस, मॉस्क, कैप, चश्मा, हैंड ग्लब्स और जूते शामिल है। लगातार बढ़ती गर्मी में किट पहनकर सुबह 9 बजे से लेकर 2 बजे तक पैदल ही घूमना आसान नहीं है, लेकिन ये अपने कर्तव्य से पीछे नहीं हट रहे है। टीम सदस्यों ने बताया कि इस दौरान वे सिर्फ पानी ही पी पाते है, वो भी पूरी सावधानी के साथ। सीएमएचओ ऑफिस पहुंचकर पूरी सावधानी के साथ उन्हें किट उतारकर नष्ट करना होती है। किट के कारण गर्मी से पसीने-पसीने हो जाते है, लेकिन अपनी जिम्मेदारी मानते हुए इसे सहन कर रहे हैं।
अब तक 6971 परिवारों में हुआ सर्वे
कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद शहर में कंटेंमेंट एरिया भी बढ़ाए गए है। सर्वे टीम नोडल अधिकारी डॉ. मनीषा जुनेजा ने बताया कि इन क्षेत्रों में कोरोना पॉजिटिव मरीज के परिवार तक पहुंचने वाली मेडिकल यूनिट टीम के अलावा 117 सर्वे टीम और भी काम कर रही है। इनके साथ 26 सुपरवाइजर भी कार्यरत है। अब तक इन टीमों में 6971 घरों तक पहुंचकर 38675 लोगों की स्क्रीनिंग की है। जिसमें कोरोना पॉजिटिव मरीज के परिवार शामिल नहीं है। ये टीम पीपीई किट भले ही नहीं पहन रही, लेकिन सावधानी के तौर पर इन्हें कैप, मॉस्क, गॉगल, ग्लब्स पहनना अनिवार्य है। डॉ. जुनेजा ने बताया कि सुरक्षा ही कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा उपाय है।

Corona virus COVID-19
Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned