परीक्षा... बोर्ड पैटर्न पर होंगी कक्षा 9वीं और 11वीं की परीक्षाएं, भोपाल से बनकर आए पेपर

seraj khan

Publish: Dec, 07 2017 03:28:20 (IST)

Khandwa, Madhya Pradesh, India
परीक्षा... बोर्ड पैटर्न पर होंगी कक्षा 9वीं और 11वीं की परीक्षाएं, भोपाल से बनकर आए पेपर

8 से 19 दिसंबर तक परीक्षा होगी। लोक शिक्षण संचालनालय ने जारी किए आदेश।

खंडवा. जिले के सरकारी स्कूलों में शुक्रवार से अद्र्धवार्षिक परीक्षाएं शुरू हो रही हैं। हाईस्कूल और हायर सेकंडरी की परीक्षाएं एक साथ होंगी। ९-११वीं के पेपर बोर्ड पैटर्न पर होंगे तो वहीं हाईस्कूल के विद्यार्थियों को बेस्ट ऑफ फाइव का भी फायदा मिलेगा। छात्रों का समान मूल्यांकन करने के लिए सभी विषयों के पेपर भोपाल से ही बनकर आएंगे।

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने ९वीं व १०वीं की वार्षिक परीक्षा में बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति अपनाने की भी तैयारी कर ली है। इससे रिजल्ट में सुधार होगा। इस पद्धति में परीक्षा 6 विषयों की ही होगी। लेकिन, अंकसूची में उन्हीं पांच विषयों के अंक जोड़े जाएंगे, जिनमें अच्छा स्कोर किया है। कुल अंकों में कम अंक वाले छठे विषय को छोड़ा जाएगा। इस विषय में न्यूनतम अंक की भी परीक्षार्थियों को छूट रहेगी।

परीक्षा 8 से 19 दिसंबर तक
लोक शिक्षण संचालनालय ने इस वर्ष बोर्ड पैटर्न पर परीक्षा की घोषणा की है। परीक्षा 8 से 19 दिसंबर तक कराई जाएगी। एक साथ चारों कक्षा की परीक्षाएं कराए जाने से कई स्कूलों में बैठक व्यवस्था की परेशानी आ रही थी। इसे देखते हुए संचालनालय ने दो शिफ्ट में परीक्षा कराने के निर्देश दिए। परीक्षा की सुबह की पहली शिफ्ट में सुबह ११.१५ से दोपहर २.१५ बजे तक कक्षा ९वीं व १०वीं की परीक्षा होगी, जबकि दोपहर की दूसरी शिफ्ट में दोपहर २.३० से शाम ५.३० बजे तक 11वीं व 12वीं के पेपर होंगे। निर्धारित समय के अनुसार ही परीक्षा आयोजित की जाएगी।

परीक्षा के साथ ही जचेंगी कॉपियां
स्कूलों को परीक्षा के साथ ही कॉपियां जंचवाने का काम शुरू कराना होगा। अद्र्धवार्षिक परीक्षा के नतीजों को विभाग महत्वपूर्ण मान रहा है। क्योंकि इस वर्ष वार्षिक परीक्षा का रिजल्ट सुधारने के लिए स्कूलों को लक्ष्य दिए गए हैं। अद्र्ध वार्षिक परीक्षा में कमजोर प्रदर्शन करने वाले छात्र-छात्राओं के लिए स्कूलों में अलग से रेमेडियल कक्षाएं लगेंगी। इसमें विषय की बारीकियां और सवाल हल करने के तरीके भी सिखाएंगे।

9वी-10वीं में बेस्ट ऑफ फाइव का लाभ
माध्यमिक शिक्षा मंडल ने ९वीं व १०वीं की वार्षिक परीक्षा में बेस्ट ऑफ फाइव पद्धति अपनाने की भी तैयारी कर ली है। इससे रिजल्ट में सुधार होगा। इस पद्धति में परीक्षा 6 विषयों की ही होगी। लेकिन, अंकसूची में उन्हीं पांच विषयों के अंक जोड़े जाएंगे, जिनमें अच्छा स्कोर किया है। कुल अंकों में कम अंक वाले छठे विषय को छोड़ा जाएगा। इस विषय में न्यूनतम अंक की भी परीक्षार्थियों को छूट रहेगी।

रिजल्ट के बाद कमजोर पक्ष देखेंगे
अद्र्धवार्षिक परीक्षा का टाइम-टेबल जारी हो चुका है। 9वीं से 12वीं की परीक्षा बोर्ड पैटर्न पर ही रहेगी। परीक्षा के रिजल्ट के बाद कमजोर पक्षों पर काम करेंगे।
पीएस सोलंकी, डीईओ

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned