युवा पीढ़ी के लिए प्रेरणा... बेटियों ने कोरोना से लड़ाई में लगाई अपनी पहली कमाई

आर्ट एंड क्रॉफ्ट की ऑनलाइन कार्यशाला में मिली पहली कमाई को बेटियों ने कोरोना संक्रमण की लड़ाई के लिए सेवा भारती को दान दिया है।

By: harinath dwivedi

Published: 20 May 2021, 11:25 AM IST

खंडवा . कोरोना से जंग में खंडवा की बेटियां युवाओं के लिए प्रेरणा बनकर सामने आईं हैं। आर्ट एंड क्रॉफ्ट की ऑनलाइन कार्यशाला में मिली पहली कमाई को बेटियों ने कोरोना संक्रमण की लड़ाई के लिए सेवा भारती को दान दिया है। यह मिसाल पेश की खंडवा की राधिका अग्रवाल, अंशिका अग्रवाल, प्रज्ञा अग्रवाल और प्रिया अग्रवाल ने। मन में सेवा का भाव लिए बेटियों ने अपने सपनों की पहली कमाई को कोरोना पीडि़तों के लिए लगा दी।
आम तौर पर युवा बचपन से ही अपनी पहली कमाई के लिए तरह-तरह के सपने देखते हैं, कोई धार्मिक कार्य में लगाना चाहता है, तो कोई उसे अपने माता-पिता के हाथों में सौंपना चाहता है, लेकिन खंडवा की बेटियों ने अपनी कमाई सेवा कार्यों में लगाकर अनूठी मिसाल पेश की है। इस कार्य को लेकर उनकी थीम थी एक कोशिश मातृभूमि और मातृत्व के नाम, सहयोग सेवा कार्यों के लिए। राधिका ने ऑनलाइन प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम पर फ्लेरी टेल्स के नाम का अकाउंट बनाया। जिसके माध्यम से आर्ट एंड क्रॉफ्ट सिखाने की कार्यशाला आयोजित की। जिसमें छोटे बच्चों को अपनी माताओं के लिए गिफ्ट हैंपर बनाना सिखाए और इस कार्य से प्राप्त पहली कमाई 8000 रुपयों को सेवा भारती खंडवा के कोरोना मुक्ति अभियान के लिए दान कर दिया। राधिका अग्रवाल का कहना है कि कोरोना संकटकाल के कठिन समय में जरुरतमंद लोगों तक ऑक्सीजन सिलेंडर, दवाओं और अन्य आवश्यक वस्तुओं को पहुंचाने का प्रयास किया है।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned