कोरोना वायरस के डर से भक्तों की भगवान से बढ़ाई दूरी

-अब ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन होंगे 10 फीट दूर से
-इंग्लैंड, जर्मनी से लौटे चार नागरिक होम क्वारेन्टाइन पर
-ट्रामा सेंटर कोरोना वायरस आयसोलेशन वार्ड को किया सेपरेट

खंडवा. कोरोना वायरस के डर से अब मंदिरों में भी भक्तों की भगवान से दूरी बढ़ा दी गई है। देश के चौथे प्रणव ज्योतिर्लिंग ओंकारेश्वर मंदिर में बुधवार से ज्योतिर्लिंग पर जल, फूल, विल्बपत्र, प्रसाद, नारियल चढ़ाने पर आगामी आदेश तक प्रतिबंध लगा दिया गया है। साथ ही भक्तों को ज्योतिर्लिंग मंदिर के पीछे वाले श्री सुखदेव मुनि गेट से प्रवेश कराकर 10 फीट दूर से दर्शन कराकर चांदी गेट से निकाला जा रहा है। वहीं, जिले में विदेश से आए चार अन्य नागरिकों को भी जिला महामारी नियंत्रक विभाग द्वारा होम आयसोलेशन पर रखा गया है। साथ ही शहर में सिंधी समाज द्वारा चैट्रीचंड्र पर होने वाले सभी कार्यक्रम निरस्त कर दिए गए हैं।
मांधाता तहसीलदार उदय मंडलोई ने बताया कि कोरोना वायरस की महामारी को लेकर सतर्कता बरती जा रही हैं। मंदिर पुजारियों द्वारा भक्तों से जल, फल, फूल, विल्बपत्र, प्रसाद आदि बाहर ही लिए जा रहे है। मंदिर में भक्तों को मास्क लगाकर प्रवेश दिया जा रहा है। सावधानी के लिए भक्तों की कतार में एक-एक फीट की दूरी बनाए रखी जा रही है। साथ ही मंदिर की रैलिंग को सेनेटाइज भी किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा डॉ. रवि वर्मा के निर्देश पर मंदिर प्रभारी हीरालाल ढीमर द्वारा मास्क व ब्लीचिंग पाउडर का वितरण किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि पुरातत्व विभाग द्वारा मंगलवार को ही अपने अधीन श्री ममलेश्वर मंदिर, सिद्धनाथ मंदिर, गौरी सोमनाथ मंदिर, चौबीस अवतार मंदिर, सिद्धवरकुट मंदिर के मेन गेट पर ताला लगाकर 31 मार्च तक दर्शनों के लिए बंद कर चुका है।
विदेश से आए चार नागरिकों को रखा निगरानी में
कोरोना वायरस को लेकर विदेश यात्रा से आने वाले जिले के नागरिकों पर भी नजर रखी जा रही है। सोमवार तक जिले में विदेश से लौटे कुल 11 लोगों की स्क्रीनिंग की गई थी। जिसमें से दो लोगों को 14 दिन ऑब्जर्वेशन में रखे जाने के बाद संक्रमण से बाहर पाया गया। जिला महामारी नियंत्रक डॉ. योगेश शर्मा ने बताया मंगलवार और बुधवार को चार अन्य नागरिकों जमर्नी और इंग्लैंड यात्रा से वापस लौटकर जिला महामारी विभाग को अपनी जानकारी दी। जिसके बाद इन चारों यात्रियों की भी स्क्रीनिंग कर होम क्वारेन्टाइन के लिए घर पर रखा गया है। इन्हें भी 14 दिन तक ऑब्जर्वेशन में रखा जाएगा। जिले में अब कुल 13 लोग विभाग की निगरानी में है।
आयसोलेशन वार्ड के लिए वेंटिलेशन की मांग
कोरोना वायरस को लेकर जिला अस्पताल और मेडिकल कॉलेज द्वारा संयुक्त रूप से ट्रामा सेंटर में आयसोलेशन वार्ड बनाया गया है। कोरोना का संदिग्ध मरीज आने पर अन्य लोगों के संपर्क में न आने पाए इसके लिए आयसोलेशन वार्ड को सेपरेट किया गया है। जिसके लिए ट्रामा सेंटर के पीछे के गेट से मरीज को वार्ड में लाया जाएगा। वहीं, मेडिकल कॉलेज डीन डॉ. संजय दादू द्वारा चिकित्सा शिक्षा विभाग से कोरोना वायरस के लिए वेंटिलेटर व अन्य उपकरणों की मांग की गई है। साथ ही जिला महामारी विभाग द्वारा भी एक वेंटिलेटर की मांग स्वास्थ्य विभाग से की गई है।

Corona virus
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned