मंत्री का 'रौद्र' रूप देख सहम गए अफसर, दरवाजे को लात मारकर खोलते हुए बोलीं- क्या है ये

चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ विजयलक्ष्मी साधौ घटिया निर्माण को देखकर भड़कीं

खंडवा/ मध्यप्रदेश की चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ विजयलक्ष्मी साधौ का रविवार को खंडवा में रौद्र रूप देखने को मिला। जब वह मेडिकल कॉलेज का निरीक्षण करने पहुंची। कॉलेज में घटिया निर्माण देख वह एक दम से उखड़ गईं। मंत्री का रौद्र रूप देख अफसर सहम गए। घटिया निर्माण की कलई खोल वह अधिकारियों लगातार फटकार लगा रही थीं, जिसका जवाब अधिकारियों के पास नहीं था।

दरअसल, खंडवा मेडिकल कॉलेज निर्माण में कितनी लापरवाही बरती गुई है, यह बात विभागीय मंत्री के सामने उजागर हो गई। मंत्री विजयलक्ष्मी साधौ रविवार को जब मेडिकल कॉलेज में पहुंचीं तो दरवाजों में पुते पेंट की परत निकल गई तो कहीं हाथ भर लगाने से ही फर्नीचर टूट गया। और तो और गर्ल्स हॉस्टल में तो सीमेंट का कई फीट टुकड़ा ही गिरकर अधिकारी के हाथ में आ गया।


भड़क गईं मंत्री
मेडिकल कॉलेज की स्थिति देख मंत्री डॉ विजयलक्ष्मी साधौ भड़क गईं। उन्होंने इसमें तुरंत सुधार के निर्देश दिए। इससे पहले उन्होंने काउंसिल हाल में बैठक भी ली। यहां से नीचे उतरीं तो सीढ़ियों पर गंदगी पसरी देख अफसरों को इसकी सफाई करने को कहा। यहां से अचानक दिव्यांगों के लिए बने टॉयलेट पर उनकी नजर पड़ी। वे तेजी से आगे बढ़ीं और दरवाजे को जोरों से लात मारी।

5_10.jpg


ये क्या है
मंत्री ने बंद दरवाजे पर जोरों से लात मारीं तो धड़ाम से दरवाजा खुल गया तो वो बोलीं कि क्या है ये। उनका यह रौद्र रूप देख अफसर सहम गए। चिकित्सा मंत्री ने दरवाजा पर लगे पेंट की निकल रही परत पर भी सवाल उठाए। फिर तो एक के बाद एक कॉलेज के कमरों के कई दरवाजों के पेंट की परत निकालकर दिखाई। रिसेप्शन के फर्नीचर की क्वालिटी की भी कलई खुल गई। यहां भी उनकी नजर टूटे हुए फर्नीचर पर पड़ गई।

6_7.jpg

चल क्या रहा है
उन्होंने अफसरों को प्लाईवुड का एक टुकड़ा भी निकाल लिया। इस टुकड़े को अफसरों को दिखाते हुए बोलीं- ये क्या चल रहा है यहां। प्लाईवुड का टुकड़ा देख साथ चल रहे कई लोगों ने टिप्पणी की कि यह प्लाईवुड नहीं, यह तो भूसा है। निरीक्षण के दौरान कॉलेज के अधिकारी उन्हें समस्याओं से अवगत कराते रहे।


मुझे सीधे फोन करें
मंत्री विशेष रूप से गर्ल्स हॉस्टल में गई। यहां उऩ्होंने अपने स्टॉफ को भी आने से मना कर दिया वे गर्ल्स से मिलीं और उनकी समस्याएं जानीं। जब यहां से लौटने लगीं तो बाहर आकर स्टूडेंट्स से कहा कि मैंने भी एमबीबीएस किया है। आपकी दिक्कतें समझती हूं। अब कोई समस्या आए तो सीधे मुझे फोन करना। इसके साथ ही मंत्री से हॉस्टल से बाहर बॉयज स्टूडेंट्स ने उनसे स्पोर्ट्स ग्राउंड बनवाने की मांग की। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को 15 दिनों में ग्राउंड तैयार कराने को कहा।

Show More
Muneshwar Kumar
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned