पहले सहकारी समितियों की हड़ताल, अब सर्वर बना परेशानी

-गेहूं उपार्जन पंजीयन के लिए आधे किसानों का भी नहीं हो पाया रजिस्ट्रेशन
-सरकार ने बढ़ाई 5 दिन की अवधि, पूरे किसानों का पंजीयन होना नहीं दिख रहा संभव

खंडवा.
समर्थन मूल्य गेहूं खरीदी के लिए हो रहे इ-पंजीयन में किसानों के लिए सर्वर परेशानी बना हुआ है। पहले 10 दिन सहकारी समितियों की हड़ताल के चलते इ-पंजीयन कार्य प्रभावित रहा। अब सर्वर धीमे होने से पंजीयन नहीं हो पा रहे है। पंजीयन के लिए सोसायटी, विपणन संघ में सुबह से लेकर देर रात तक बैठे रहने के बाद भी किसान को बिना पंजीयन के लौटना पड़ रहा है। पंजीयन के लिए सरकार ने समय बढ़ाया, लेकिन सर्वर की परेशानी के चलते ये समय भी कम पड़ता दिख रहा है।
जिले में समर्थन मूल्य गेहूं-चना की खरीदी एक अप्रैल से आरंभ होना है, जिसके लिए इन दिनों जिले की 78 समितियों में किसानों का पंजीयन किया जा रहा है। जिले में 32598 किसानों का पंजीयन गेहूं और 10 हजार करीब किसानों का चना उपार्जन के लिए होना है। जिसमें से अब तक महज 15 हजार का ही पंजीयन हो पाया है। पंजीयन कम होने का मुख्य कारण पिछले दिनों करीब 12 दिनों तक चली समितियों की हड़ताल है। हड़ताल खत्म होने के बाद पंजीयन के लिए किसानों की भीड़ केंद्रों पर लग रही है। पंजीयन के लिए मार्केटिंग सोसायटी पहुंचे किसान जितेंद्र पटेल कोलाडिट ने बताया कि सुबह 9 बजे से आए हैं, दोपहर एक बजे तक भी नंबर नहीं आ पाया। शुक्रवार को भी रात 10 बजे तक बैठे रहे थे।
रात के तीन बजे तक कर रहे काम
खंडवा शहर और आसपास के 9 गांवों के किसानों का पंजीयन तहसील मार्केटिंग सोसायटी में हो रहा है। पंजीकृत गांवों के अलावा भी यहां पंजीयन के लिए दूसरे ब्लॉक से भी किसान आ रहे हैं। यहां अब तक महज 520 किसानों का पंजीयन ही हो पाया है। सोसयटी कर्मचारी निखिल चौधरी ने बताया कि सर्वर इतना धीरे चल रहा है कि एक किसान के पंजीयन में एक से डेढ़ घंटा लग रहा है। इस बीच यदि सर्वर बंद हो जाए तो दोबारा से पूरी प्रक्रिया करनी पड़ रही है। दिन में सर्वर की समस्या के चलते रात में तीन-तीन बजे तक काम कर रहे है, लेकिन समस्या जस की तस बनी हुई है।
इ-पंजीयन की तारीख बढ़ाई जाए
भारतीय किसान संघ जिला समन्वयक सुभाष पटेल ने बताया कि सोसायटी की हड़ताल के कारण पंजीयन कार्य प्रभावित हुआ है। अब सर्वर के कारण पंजीयन नहीं हो पा रहे है। आधे किसानों का भी पंजीयन नहीं हो पाया है। सोमवार को कृषि मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर पंजीयन की तारीख 10 मार्च तक करने की मांग की जाएगी। उल्लेखनीय है कि इ-पंजीयन की तारीख 20 फरवरी थी, जिसे बढ़ाकर 25 फरवरी किया है।

Show More
मनीष अरोड़ा Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned