Fraud - पांच वर्ष में पैसा डबल करने का झांसा देकर से 20 लाख ठगे

बिजोरा माफी पुनर्वास का मामला: ठगने वाले चिकित्सक के खिलाफ होगी चिटफंड के तहत कार्रवाई
ठगी मामले में मछुआरों ने एसडीएम को सौंपी शिकायत, कार्रवाई का मिला आश्वासन

By: tarunendra chauhan

Published: 25 Nov 2020, 07:45 PM IST

खंडवा. पुनासा जनपद के हनुवंतिया मार्ग पर स्थित बिजोरा माफी पुरनी पुनर्वास में रहने वाले 20 मछुआरों ग्राम गुर्जर खेड़ी के डॉक्टर राजेंद्र मंडलोई के 5 वर्ष में राशि दोगुनी करके देने के बहकावे में आकर पैसे दे दिए। अवधि पूरी होने पर चिकित्सक ने कंपनी के भाग जाने का कहकर पल्ला झाड़ लिया। इस चिटफंड के मामले को पत्रिका ने 20 नवंबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। मछुआरों ने कार्रवाई की मांग की थी। मंगलवार को मछुआरों को जब पता चला कि मुख्यमंत्री और गृहमंत्री ने चिटफंड कंपनी और एजेंटों पर सख्त रूख अपनाया इै और जिले के कलेक्टर के द्वारा भी चिटफंड के मामले को लेकर गंभीरता दिखाई गई है तो बिजोरा माफी पुरनी पुनर्वास से मछुआरे आवेदन लेकर एसडीएम कार्यालय पुनासा पहुंचे और यहां पर एसडीएम डीएस सोलंकी को समस्या से अवगत कराया। ज्ञापन में बताया गया कि उनके गांव में रहकर डॉक्टर इलाज करता था और हमको दिल्ली की कंपनी आनेे की बात बताई और कहा कि इसमें पैसा लगाओगे तो 5 साल में राशि दोगुनी हो जाएगी।

कंपनी नहीं देगी तो पैसा मैं दूंगा। हमने भरोसा कर लिया और अब डॉक्टर आनाकानी करता है। पैसा मांगने जाओं तो धौंस दिखाकर भगा देता है। हमने भरोसा कर कर 20 लाख के लगभग राशि इस डॉक्टर के हवाले कर दी। 5 वर्ष तक हम से राशि लेता रहा, जब देने का समय आया तब नकार रहा है। 2 वर्ष से हम अपनी जमा पूंजी के लिए दर-दर भटकने को मजबूर हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश के बाद उम्मीद जगी है। डॉक्टर पर कार्रवाई होनी चाहिए और हमारे रात दिन के मेहनत का पैसा भी वापस होना चाहिए।

डॉक्टर को भेजेंगे नोटिस
मछुआरों की आपबीती और समस्या को सुनने के बाद एसडीएम चंदर सिंह सोलंकी ने एसडीओपी पुनासा से फोन पर बात की और उनको इस मामले के बारे में अवगत कराया साथ ही यह भी कहा कि यह लोग बहुत दिनों से परेशान हो रहे हैं । चिटफंड के तहत कार्रवाई होनी चाहिए। एसडीएम ने मछुआरों से कहा कि एसडीओपी खंडवा गए हैं। उनके आने पर कार्रवाई की जाएगी। एसडीएम कार्यालय से डॉक्टर को नोटिस देकर बुलाया जाएगा और पूरी जानकारी ली जाएगी।

एसडीम कार्यालय से नोटिस भेजकर डॉक्टर को बुलवाया जाएगा। एसडीओपी को अवगत करा दिया गया है। चिटफंड के तहत कार्रवाई की जाएगी।
सीएस सोलंकी, एसडीएम पुनासा

Show More
tarunendra chauhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned